ताज़ा खबर
 

वेनेजुएला में नोटबंदी का फैसला दो सप्ताह के लिए टला, देश में मच गई थी अफरा-तफरी

भारत की नोटबंदी की तरह ही वेनेजुएला में भी 100 बोलिवर का नोट वापस लिए जाने का फैसला लिया गया था।

प्रदर्शन के दौरान एक शख्स ने 100-bolivar का नोट जला दिया। (Photo Source: REUTERS/File)

वेनेजुएला में नोटबंदी के फैसले को दो सप्ताह के लिए ताल दिया गया है। नोटबंदी को टालने का फैसला देश में मची अफरा-तफरी के बाद लिया गया है। वेनेजुएला की सरकार ने बयान जारी करके कहा है कि 100 बोलिवर के नोट हटाने का फैसला दो जनवरी तक टाल दिया गया है। बता दें, भारत की नोटबंदी की तरह ही वेनेजुएला में भी 100 बोलिवर का नोट वापस लिए जाने का फैसला लिया गया था। साथ ही लोगों को तीन दिन के भीतर ही पुराने नोट बैंकों में जमा कराने के लिए कहा गया था।

सरकार के इस फैसले के बाद पूरे देश में विरोध-प्रदर्शन होने लगे। प्रदर्शनों ने हिंसक रूप भी धारण कर लिया। फैसले के बाद देश में फैली हिंसा में दर्जनों दुकानें लूटी गई हैं। इसके साथ ही विरोध-प्रदर्शन में तीन लोगों की मौत की भी खबर है। हालांकि, अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। देश के कई शहरों में हिंसक झड़प की भी खबर है। पुलिस ने दर्जनों लोगों को हिरासत में लिया है। वेनेजुएला के राष्ट्रपति ने कहा है कि देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने के लिए साजिश रची गई है।

नोटबंदी के फैसले के साथ ही सरकार ने लोगों से ई-ट्राजेक्शन करने के लिए कहा था। रिपोर्ट्स के मुताबिक वहां 40 फीसदी लोगों के पास तो बैंक अकाउंट ही नहीं है। इसके साथ ही बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी लाइन देखने को मिली। भारत में भी नोटबंदी के फैसले के बाद बैंक और एटीएम के बाहर लंबी लाइन देखने को मिल रही हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर को किया था। इसके साथ ही लोगों को अपने पुराने नोट 30 दिसंबर तक बैंकों में जमा कराने के वक्त दिया गया था।

भारत में भी इस फैसले के बाद लोगों को कैश की काफी दिक्कत हो रही है। फैसले को एक महीने गुजर गया, लेकिन लोगों को कैश नहीं मिल पा रहा है। लोग कैश के लिए बैंक और एटीएम के बाहर कतारों में खड़े हैं। वहीं रिपोर्ट्स के मुताबिक कैश के लिए लाइन में खड़े दर्जनों लोगों की मौत भी हो गई।

वीडियो में देखें- नोटबंदी: विपक्ष के सवालों पर सरकार कर रही है फैसले का बचाव, देखिए दोनों के तर्क

वीडियो में देखें-अटल सरकार के वक्त RBI गवर्नर रहे बिमल जालान ने पूछा- “नोटबंदी अब क्यों…फैसले को सीक्रेट रखने से क्या मदद मिली?”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App