ताज़ा खबर
 

आईएस के खिलाफ लड़ रहे पोत पर तैनात अमेरिकी नेवी ने दिया बच्ची को जन्म, प्रेग्नेंसी से थी अनजान

11 सितंबर को उस महिला नेवी ने एक बच्ची को जन्म दिया। बच्ची का वजन 7 पाउंड है और बिल्कुल स्वस्थ है।
अरब सागर में तैनात अमेरिकी विमानवाहक पोत (स्रोत-navy.mil)

आईएसएईएस के खिलाफ तैनात एक अमेरिकी विमान वाहक पोत पर एक महिला नेवी ने बीच समंदर में एक बच्चे को जन्म दिया है। हैरत की बात यह है कि उस महिला नेवी को पता ही नहीं था कि वो प्रेग्नेंट है। जब शनिवार को उसे पेट में अचानक भयंकर दर्द हुआ तो वह पोत पर तैनात डॉक्टरों से मिलने पहुंची। जांच के बाद डॉक्टर ने बताया कि वो प्रेग्नेंट है। उसके अगले ही दिन यानी 11 सितंबर को उस महिला नेवी ने एक बच्ची को जन्म दिया। बच्ची का वजन 7 पाउंड है और बिल्कुल स्वस्थ है। जिस वक्त बच्ची का जन्म हुआ अमेरिकी विमान वाहक पोत अरब की खाड़ी में तैनात था। डॉक्टर के मुताबिक मां और बच्ची दोनों स्वस्थ है। नेवी फैमिली में आई नन्हीं मेहमान को देखकर नाविक दल के सभी सदस्य खुश हैं। हालांकि, नेवी इस बात से इनकार कर रहा है कि महिला नेवी ने उसे अपनी प्रेग्नेंसी की सूचना दी थी।

अमेरिकी नेवी पॉलिसी के मुताबिक कोई भी गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी के 20वें सप्ताह तक ही युद्धपोत पर रह सकती हैं। उसके बाद उसे नजदीक के बंदरगाह पर पहुंचा दिया जाता है। नेवी सूत्रों ने महिला नेवी का नाम उजागर नहीं किया है। फिलहाल उसे आराम करने की सलाह दी गई है। अमेरिकी नेवी हालांकि इस तरह के जन्म का लेखा-जोखा नहीं रखता है लेकिन नेवी के प्रवक्ता के मुताबिक साल 2003 में भी एक महिला ने अरब की खाड़ी में पोत पर एक बच्चे को जन्म दिया था।

गौरतलब है कि आतंकी संगठन आईएसआईएस के खिलाफ अमेरिकी सैनिकों की कार्रवाई के लिए यूएस युद्धपोत आइजनऑवर की तैनाती अरब की खाड़ी में किया गया है।यह विमान वाहक पोत 5000 से अधिक बोर्ड सदस्यों और नागरिकों को साथ लेकर वर्जीनिया के नॉर्फ्लोक से पिछले 1 जून को रवाना हुआ था। नौसेना ने इस घटना की पुष्टि की है और साथ यह भी कहा है कि बच्ची की माँ एक अमरीकी नागरिक है। बच्ची की नागरिकता के लिए नेवी बहरीन स्थित अमरीकी दूतावास के साथ काम कर रहा है ।

Read Also-अमेरिकी नौसेना के ट्रेनर ने मुस्लिम सैनिक को कहा आतंकवादी, कपड़े सुखाने वाले ड्रायर में रखकर जला डाला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.