ताज़ा खबर
 

बढ़ रहा है पाक का परमाणु जखीरा, हथियारों की चोरी का खतरा अधिक: US Report

‘हावर्ड केनेडी स्कूल’ ने कहा कि पाकिस्तान में मामूली लेकिन तेजी से परमाणु जखीरा बढ़ रहा है

Author वॉशिंगटन | Updated: March 22, 2016 5:39 PM
US report, Pakistan nuclear weapons, Pakistan nuclear weapons 2015, pakistan nuclear weapons vs india, pakistan nuclear weapons news, Pakistan, United Statesइस्लामाबाद में आयोजित पाकिस्तान राष्ट्रीय दिवस के मौके पर प्रदर्शन के दौरान परमाणु मिसाइल शाहीन 2 (एपी फोटो)

अमेरिका के गैर सरकारी संगठन ने चेताया है कि पाकिस्तान ने गैर सामरिक परमाणु हथियारों की तरफ रुख किया है और इसी के साथ उसके परमाणु चोरी का खतरा बढ़ गया है। अमेरिकी थिंक टैंक ‘हार्वर्ड केनेडी स्कूल’ की ओर से जारी रिपोर्ट ‘प्रीवेंटिंग न्यूक्लीयर टेररिज्म : कंटिन्युअस इम्प्रूवमेंट ऑर डेंजरस डिक्लाइन?’ में यह कहा गया, ‘‘कुल मिलाकर पाकिस्तान में परमाणु चोरी का खतरा बहुत बढ़ गया है।’’
इसके अनुसार, ‘‘पाकिस्तान के परमाणु जखीरे का विस्तार हो रहा है और यह गैर-सामरिक परमाणु हथियारों की ओर रुख कर रहा है और इस चलन से खतरा बढ़ता प्रतीत हो रहा है, जबकि प्रतिकूल क्षमताएं अत्यधिक बनी हुई हैं।’’

दीर्घकालीन आधार पर देश के ढहने या उसपर अतिवादियों के कब्जे की आशंकाओं को खारिज नहीं किया जा सकता। बहरहाल, निकट अवधि में इस तरह की आशंका की गुंजाइश कम प्रतीत हो रही है। अमेरिका के एक शीर्ष राजनयिक ने एक सप्ताह पहले कुछ इसी तरह की चिंता जाहिर की थी जिसके बाद ‘हार्वर्ड केनेडी स्कूल’ की यह रिपोर्ट सामने आई है।

अमेरिका में विदेश विभाग के शस्त्र नियंत्रण एवं अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा मामले पर अवर सचिव राइज ई गोट्टेमोएलर ने बृहस्पतिवार को कांग्रेस में बहस के दौरान सीनेट की विदेश संबंध समिति के सदस्यों को बताया, ‘‘पाकिस्तान के गैर-सामरिक परमाणु हथियारों की तैनाती को लेकर हमलोगों की चिंता बढ़ी है।’’

भारत के परमाणु सुरक्षा उपाय पाक से भी कमजोर, US Report में बताया ‘भीतरी खतरा’

गोट्टेमोएलन ने कहा था, ‘‘अपनी विध्वंसक प्रकृति के कारण गैर-सामरिक परमाणु हथियारों से सुरक्षा का खतरा पैदा हुआ है, क्योंकि आप अपनी जरूरत के आधार पर अपने दायरे से बाहर जाकर इस तरह के गैर-सामरिक हथियारों को ले रहे हैं और जैसा कि आप जानते हैं कि इन्हें सुरक्षित नहीं बनाया जा सकता।’’

‘हावर्ड केनेडी स्कूल’ ने कहा कि पाकिस्तान में मामूली लेकिन तेजी से परमाणु जखीरा बढ़ रहा है और तेजी से बढ़ रहे भ्रष्टाचार, अतिवादियों के प्रति सहानुभूति के माहौल में दुनिया के सर्वाधिक सक्षम आतंकवादी समूहों के खिलाफ इनकी पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था होनी चाहिए। ऐसा मानना है कि पाकिस्तान के परमाणु हथियारों का प्रबंधन करने वाले ‘स्ट्रैटजिक प्लान्स डिविजन’ के पास देश के परमाणु हथियारों के जखीरे और सुविधाओं की सुरक्षा के लिए 25,000 सुरक्षाकर्मी उपलब्ध हैं।

पाकिस्तानी अधिकारियों की रिपोर्ट के अनुसार, ऐसी जगहों पर व्यापक अवरोधक और जांच प्रणाली लगाई गई है और परमाणु हथियारों के अवयवों को अलग अलग रखा गया है और अनधिकृत इस्तेमाल से रोकने के लिए इन हथियारों की तालाबंदी की गई है। बहरहाल, इनमें बदलाव की संभव है, क्योंकि पाकिस्तान गैर-सामरिक हथियारों की ओर रूख कर रहा है और इन्हें तेजी से तैनात करने का इरादा रखता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories