ताज़ा खबर
 

भारत से हो चोरी हो गईं थी 800 साल पुरानी मूर्तियां, अमेरिका ने किया वापस

दो अमेरिकी संग्रहालयों में प्रर्दिशत भारत से चुरायी गयीं हजारों डॉलर की दो प्राचीन मूर्तियां अमेरिका ने भारत को लौटा दी हैं।

फोटो- @INDIANEWYORK)

दो अमेरिकी संग्रहालयों में प्रर्दिशत भारत से चुरायी गयीं हजारों डॉलर की दो प्राचीन मूर्तियां अमेरिका ने भारत को लौटा दी हैं। पहली मूर्ति लिंगोधभव मूर्ति’ 12 वीं सदी की है। भगवान शिव की ग्रेनाइट से निर्मित यह ऐतिहासिक मूर्ति चोल काल की है। फिलहाल इसकी कीमत 225,000 डॉलर आंकी गयी है। इसे तमिलनाडु से चुराया गया था और अलबामा के बर्घिमम संग्रहालय में प्रर्दिशत किया गया था। दूसरी मूर्ति बोधिसत्व ‘मंजूश्री’ की मूर्ति है। उसके हाथ में तलवार है और मूर्ति सोने के रंग में रंगी है। 12 वीं सदी की यह फिलाइट मूर्ति 1980 के दशक में बिहार में बोधगया के समीप के एक मंदिर से चुराई गयी थी। इसका वर्तमान दाम करीब 275,000 डॉलर आंका गया है। इसे उत्तरी कैरोलीना विश्वविद्यालय के आकलैंड आर्ट संग्रहालय से हासिल किया गया है। ये मूर्तियां न्यूयार्क में वाणिज्य दूतावास में एक कार्यक्रम में भारत के महावाणिज्य दूत संदीप चक्रवर्ती को मैनहट्टन जिला आर्टनी साइरस वेंस जूनियर ने सौंपीं। उत्तराखंड के बैजनाथ के चक्रवर्तेश्वर मंदिर से 1969 के बाद चोरी की गई थी।

गौरतलब है कि इससे पहले न्यूयार्क के मेट्रोपोलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट ने भी भारत से चुराई गईं दो ऐतिहासिक धरोहरों को दिल्ली आकर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को सौंपा है। इसमें दुर्गा महिषासुर मर्दिनी व देवता का सिर शामिल है। 10 अगस्त को मेट्रोपोलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट के अधिकारी दो ऐतिहासिक मूर्तियों को अपने खर्च पर वापस ले आए। हालांकि इन मूर्तियों से पहले भी हमारे देश की धरोहर मूर्तियों को विदेश संग्रहालयों ने वापस लौटाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App