ताज़ा खबर
 

ट्रंप ने की ‘योग्यता-आधारित’ आव्रजन प्रणाली की वकालत, भारतीय पेशेवरों को मिल सकता है फायदा

ट्रंप ने दिवंगत राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन के शब्दों को याद करते हुए योग्यता-आधारिज आव्रजन प्रणाली का विचार रखा।

Author वॉशिंगटन | March 1, 2017 1:32 PM
वॉशिंगटन के व्हाइट हाउस के ओवल कार्यालय में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पत्रकारों को थम्स-अप दिखाते हुए। (REUTERS/Jonathan/29 Jan, 2017)

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने योग्यता-आधारित आव्रजन प्रणाली का बुधवार (1 मार्च) को आह्वान किया जिससे भारत जैसे देशों के उच्च-तकनीक पेशेवरों को लाभ मिल सकता है। कांग्रेस को अपने पहले संबोधन के दौरान ट्रंप ने कहा, ‘कनाडा, ऑस्ट्रेलिया जैसे दुनिया के कई देशों में योग्यता आधारित आव्रजन प्रणाली है।’ उन्होंने कहा कि इस तरह की प्रणाली से कई डॉलर की बचत होगी और कर्मियों का वेतन भी बढ़ेगा। ट्रंप ने दिवंगत राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन के शब्दों को याद करते हुए योग्यता-आधारिज आव्रजन प्रणाली का विचार रखा। उन्होंने कहा, ‘लिंकन सही थे और यह समय उनके शब्दों पर ध्यान देने का है।’

ट्रंप ने कहा, ‘मौजूदा समय की निम्न-कुशल आव्रजन प्रणाली की जगह योग्यता-आधारित आव्रजन प्रणाली अपनाने से कई लाभ होंगे। इससे अनगिनत डॉलर की बचत होगी, कर्मियों का वेतन बढ़ेगा और प्रवासियों के परिवारों समेत संघर्ष कर रहे मध्यम वर्ग के परिवारों को भी मदद मिलेगी।’ ट्रंप ने कहा कि वह लाखों नौकरियां वापस लाने जा रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘अपने कर्मियों की सहायता करने का मतलब कानूनी आव्रजन की हमारी प्रणाली में सुधार करना भी है। वर्तमान समय की पुरानी प्रणाली हमारे गरीब कर्मियों के वेतन को कम करती है और करदाताओं पर बहुत अधिक दबाव डालती है।’

कंसास गोलीबारी घटना पर ट्रंप ने तोड़ी चुप्पी

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कंसास गोलीबारी की घटना पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए बुधवार (1 मार्च) को कहा कि अमेरिका घृणा एवं बुराई के सभी रूपों की एकजुट होकर निंदा करता है। कंसास में हुई गोलीबारी में एक भारतीय इंजीनियर की मौत हो गई थी। ट्रंप ने अमेरिकी कांग्रेस के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए कहा, ‘यहूदी सामुदायिक केंद्रों को निशाना बनाकर हाल में दी गई धमकियां और यहूदी कब्रिस्तानों में तोड़ फोड़ की घटना के अलावा कंसास शहर में पिछले सप्ताह हुई गोलीबारी हमें याद दिलाती हैं कि हमारा देश नीतियों के मामले में भले ही बंटा हुआ हो लेकिन हमारा देश घृणा एवं बुराई के सभी रूपों की निंदा के लिए एकजुट होकर खड़ा है।’

ट्रंप ने इस घटना की निंदा करने की कई भारतीय अमेरिकी संगठनों एवं सांसदों की अपील पर ध्यान देते हुए अमेरिकी कांग्रेस में अपने पहले संबोधन में कंसास का जिक्र किया। संघीय जांच ब्यूरो (एफबीआई) इस घटना की जांच घृणा अपराध के रूप में कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘मैं इस बात को लेकर बहुत स्पष्ट हूं कि राष्ट्रपति को इस शानदार मंच का प्रयोग इस घृणास्पद करतूत की साफ शब्दों में निंदा करने के लिए करना चाहिए और यह मजबूत संदेश भेजना चाहिए कि किसी भी अमेरिकी को अपने समुदाय में डर कर जीने की जरूरत नहीं है।’

डोनाल्ड ट्रंप ने कंसास में मारे गए भारतीय की मौत की निंदा की

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App