ताज़ा खबर
 

प्रवासियों का विरोध करने वाले डोनाल्ड ट्रंप की मां थीं प्रवासी, रियल एस्टेट-कैसिनो से की अकूत कमाई

डोनाल्ड ट्रंप पांच भाई बहनों में अपने माता-पिता की चौथी संतान हैं। उनकी एक बहन बैंकर है और दूसरी जज है।
अमेरिका के निर्वाचित नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। (AP Photo/John Locher)

रिपबल्किन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के अगले राष्ट्रपति होंगे। मंगलवार (8 नवंबर) को हुए मतदान के बाद ट्रंप को जरूरी इलेक्टोरल वोट मिल गए हैं। उन्होंने डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को हाराया है। डोनाल्ड ट्रंप का जन्म न्यूयॉर्क के क्वींस में 14 जून 1946 में हुआ था। उनके पिता फ्रेड ट्रंप न्यूयॉर्क में रियल एस्टेट का कारोबार करते थे। फ्रेड ब्रुकलिन और क्वींस में एमआईजी फ्लैट बनाकर काफी दौलत कमायी। ट्रंप की मां मैरी ट्रंप स्कॉटलैंड से आने वाली प्रवासी थीं। उनके माता-पिता ने उन्हें 13 साल की उम्र में न्यूयॉर्क मिलिट्री अकादमी में पढ़ने के लिए भेज दिया था। वो 1964 में अकादमी से पास हुए।

ट्रंप ने यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवानिया के व्हार्टन स्कूल ऑफ फाइनेंस से अर्थशास्त्र की पढ़ाई की। ट्रंप अपनी पढ़ाई के दौरान छुट्टियों में अपने पिता की कंपनी ‘एलिजाबेथ ट्रंप एंड सन’ में काम करते थे। कॉलेज की पढ़ाई के बाद वो पूरी तरह अपने पिता की कंपनी से जुड़ गए। ट्रंप ने 1971 में पिता का पूरा कारोबार का संभाल लिया। उन्होंने कंपनी का नाम बदलकर “‘ट्रंप ऑर्गेनाइजेशन” कर दिया। वो क्वींस छोड़कर मैनहैट्टन में रहने चले गए।

चुनाव प्रचार के दौरान ट्रंप बार-बार इस बात पर जोर देते रहे कि उनके पिता ने कारोबार शुरू करने के लिए उन्हें बड़ी दौलत नहीं दी थी। पहली प्रेसिडेंशियल बहस में हिलेरी क्लिंटन ने कहा था कि ट्रंप ने 1.4 करोड़ डॉलर से अपना कारोबार शुरू किया था। लेकिन ट्रंप ने उनकी बात गलत बताते हुए कहा था कि “मेरे पिता ने 1975 में मुझे बहुत छोटा सा लोन दिया था।” शायद उनकी बात में सच्चाई भी है क्योंकि ट्रंप का कारोबार जिस ऊंचाई पर आज नजर आता है उसकी शुरुआत उनके मैनहैट्टन आने के बाद ही हुई।

वीडियो: जानिए अमेरिकी चुनाव से जुड़े रोचक तथ्य-

मैनहैट्टन आने के बाद ट्रंप ने कई प्रमुख लोगों से संपर्क बढ़ाया। 1971 में ट्रंप ने मैनहट्टन बिल्डिंग प्रोजेक्ट के लिए निर्माण कराना शुरू किया। 1973 में ट्रंप परिवार के कारोबार पर गंभीर सवाल उठे। अमेरिकी सरकार ने उनके पिता और उनकी कंपनी पर लोगों को घर बेचने या किराए पर देने में नस्ली भेदभाव का मामला दर्ज किया। ट्रंप ने मामले को निराधान बताते हुए कहा था कि उनकी कंपनी नस्ली आधार पर भेदभाव नहीं करती। लंबी कानूनी लड़ाई के बाद 1975 में समझौता हुआ जिसके तहत उन्हें अपनी कंपनी के कर्मचारियों को नस्ली भेदभाव के कानून के प्रति संवेदनशील बनाने के लिए प्रशिक्षण देने की हामी भरनी पड़ी।

1979 में ट्रंप ने कैसिनो (जुआघर) में भी निवेश करना शुरू कर दिया। उन्होंने 1984 में हलीडे इन होटल को खरीद कर ट्रंप प्लाजा और कैसिनो खोला। इसके बाद उन्होंने हिल्टन होटल-कैसिनों भी खरीद लिया। 1980 में उन्होंने न्यूयॉर्क में ग्रैंड हयात होटल का पुनर्निमाण कराया।  हयात होटल के सफल निर्माण के साथ ही वो एक मशहूर डेवलपर हो गए थे। 1990 में उन्होंने अटलांटिक सिटी में “ताजमहल” नामका होटल-कैसिनो खोला। इसे दुनिया का सबसे बड़ा होटल-कैसिनो माना जाता था। हालांकि हाल ही में खबरें आई थीं कि ये ट्रंप का ताजमहल होटल-कैसिनो बंद होने वाला है। रियल-एस्टेट और कैसिनो सेक्टर में ट्रंप ने आने वाले दशकों में भी अपना दबदबा बनाए रखा और अकूत दौलत कमाई। 1990 के दशक में उन्होंने एयरलाइन सेक्टर में भी हाथ आजमाए लेकिन वहां उन्हें सफलता नहीं मिली।

रियल एस्टेट और कैसिनो से अरबपति बन चुके  ट्रंप 2004 में वो एनबीसी के रियलिटी सीरीज द अप्रेंटिस में शामिल हुए। वो इस शो के निर्माता भी थे। ये शो काफी लोकप्रिय हुा। ट्रंप ने पहली 2012 में संकेत दिया कि वो अमेरिका के राष्ट्रपति का चुनाव लड़ सकते हैं। 2015 में अमेरिका का राष्ट्रपति चुनाव लड़ने की घोषणा की। जुलाई 2016 में वो अपने प्रतिद्वंद्वी को हराकर आधिकारिक रिपब्लकिन उम्मीदवार बने और आखिरकार चुनाव जीतने में सफल रहे।

ट्रंप पांच भाई बहनों में अपने माता-पिता की चौथी संतान हैं। उनकी एक बहन बैंकर है और दूसरी जज है। उनके भाई रॉबर्ट ट्रंप की कंपनी में अधिकारी हैं। उनके भाई फ्रेडी की 1981 में 43 साल की उम्र में ज्यादा शराब पीने की वजह से मौत हो गई थी। ट्रंप अपने शराब छोड़ने की वजह बताते हुए बार-बार फ्रेडी का हवाला देते रहे हैं। डोनाल्ड ट्रंप ने अब तक तीन शादियां की हैं। उनके पांच बच्चे और आठ पोते-पोती हैं।

चुनाव प्रचार के दौरान हिलेरी क्लिंटन और डोनाल्ड ट्रंप के बीच हुई दूसरी प्रेसिडेंसियल बहस के दौरान जब हिलेरी से ट्रंप में कोई एक किसी सकारात्मक बात बताने के लिए कहा वो उन्होंने कहा, “मैं उनके बच्चों की इज्जत करती हूं। उनके बच्चे बेहद काबिल और समर्पित हैं और मुझे लगते है कि इससे डोनाल्ड के बारे में काफी कुछ पता चलता है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.