ताज़ा खबर
 

US ELECTIONS 2016: Super Tuesday 2.0 में सबकी निगाहें फ्लोरिडा-ओहियो पर टिकीं

ट्रंप ने 14 राज्यों में प्राइमरी चुनाव और कॉकस जीते हैं। उनके पास 460 डेलीगेट का समर्थन है

Author वॉशिंगटन | March 15, 2016 1:05 PM
रिपब्लिकन पार्टी में राष्ट्रपति चुनाव पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप। (एपी फाइल फोटो)

राष्ट्रपति पद के लिए मंगलवार (15 मार्च) को होने वाले अहम प्राइमरी चुनावों से पहले सभी की नजरें फ्लोरिडा और ओहियो पर टिकी हैं जहां रिपब्लिकन उम्मीदवार बनने के दावेदार क्रमश: मार्को रुबियो और जॉन कासिच अपनी पार्टी के उम्मीदवार बनने के प्रबल दावेदार डोनॉल्ट ट्रंप के सामने चुनावी लड़ाई में ‘करो या मरो’ की स्थिति में होंगे। ट्रंप की प्रचार मुहिम हाल में विरोध प्रदर्शन के कारण प्रभावित हुई है।

व्हाइट हाउस की दौड़ में बने रहने के लिए रुबियो (44) और कासिच (63) को अपने अपने राज्यों में प्राइमरी चुनाव जीतना होगा। इन चुनावों के बाद ट्रंप के आठ नवंबर को होने वाले चुनाव में पार्टी उम्मीदवार बनने के और निकट पहुंचने की संभावना है। मंगलवार (15 मार्च) के चुनाव कार्यक्रम को ‘‘सुपर ट्यूजडे 2.0’’ करार दिया गया है, जब फ्लोरिडा, इलिनोइस, मिसौरी, उत्तर कैरोलिना और ओहियो के साथ साथ उत्तरी मारियाना द्वीप में चुनाव होंगे।

इन पांच राज्यों में होने वाले प्राइमरी चुनाव में 360 डेलीगेट दांव पर हैं। इन राज्यों में ट्रंप की रैलियों में अभूतपूर्व स्तर की हिंसा और विरोध प्रदर्शन हुए। ट्रंप को उनके समर्थकों और विरोधियों के समूहों के बीच शुक्रवार रात को हुए संघर्षों के कारण शिकागो की अपनी सभा रद्द करनी पड़ी थी।

चुनाव पूर्व ताजा सर्वेक्षणों में रविवार (13 मार्च) को बताया गया कि ओहियो में लोकप्रिय गवर्नर कासिच और ट्रंप के बीच नजदीकी मुकाबला होगा। राष्ट्रपति पद के पूर्व रिपब्लिकन उम्मीदवार मिट रोमनी ने घोषणा की है कि वह ओहियो में कासिच के समर्थन में प्रचार करेंगे। ट्रंप को हराने की खुले कर अपील करने वाले रोमनी की रणनीति ट्रंप को डेलीगेटों का बहुमत प्राप्त करने से रोकना है इसलिए पार्टी उम्मीदवार को लेकर अंतिम निर्णय जुलाई में क्लीवलैंड सम्मेलन में लिया जाएगा।

तेजी से बदल रहे राजनीतिक समीकरणों के बीच ट्रंप (69) ने रविवार (13 मार्च) रात फ्लोरिडा में अपनी रैली रद्द करने और इसके बजाए ओहियो में प्रचार करने की घोषणा की। ट्रंप के प्रबंधकों का कहना है कि ओहियो में रैली में हजारों लोग भाग लेंगे।

पार्टी का उम्मीदवार बनने के लिए ट्रंप को फ्लोरिडा और ओहियो दोनों में प्राइमरी चुनाव जीतने की अत्यंत आवश्यकता है। ट्रंप ने 14 राज्यों में प्राइमरी चुनाव और कॉकस जीते हैं। उनके पास 460 डेलीगेट का समर्थन है लेकिन वह अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी सीनेटर टेड क्रूज से मात्र 100 डेलीगेट आगे हैं। क्रूज ने सात राज्य जीते हैं और उनके पास 360 डेलीगेट का समर्थन है।

रुबियो ने तीन राज्यों में जीत दर्ज की है और उनके पास 163 डेलीगेट का समर्थन है जबकि कासिच ने अभी कोई चुनाव नहीं जीता है और उनके पास 63 डेलीगेटों का समर्थन है। पार्टी का उम्मीदवार बनने के लिए दावेदार को कुल 2,472 डेलीगेटों में से 1237 डेलीगेट के समर्थन की आवश्यकता है।

रोमनी की रणनीति अपनाते हुए रुबियो ने ओहियो में अपने समर्थकों से कासिच के लिए मतदान करने को कहा है। रुबियो ने ट्रंप की भाषा को ‘‘खतरनाक’’ बताया है। उन्होंने सीएनएन से कहा, ‘‘ हम इस देश में ऐसे बिंदु पर पहुंच गए हैं जहां हम हिंसा और गुस्से के स्तर तक पहुंचे बिना राजनीति पर बहस कर ही नहीं सकते। हम हमारा गणराज्य खो रहे हैं।’’

अपने गृह राज्य फ्लोरिडा में रुबियो अपने जीवन की संभवत: सबसे मुश्किल चुनावी लड़ाई लड़ेंगे। ओहियो में काफी कुछ दांव पर लगा होने के बीच ट्रंप ने कासिच पर व्यक्तिगत हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि वह लंबे समय से राज्य से गायब रहे हैं। कासिच ने बाद में ट्रंप पर उनके खिलाफ झूठ की मुहिम चलाने का आरोप लगाया। उनके प्रवक्ता रॉब निकोल्स ने कहा, ‘‘ट्रंप ओहियोवासियों से झूठ बोल रहे हैं और हम हमारे अगले कदमों को लेकर हमारे वकीलों से विचार विमर्श कर रहे हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ट्रंप के झूठे ट्वीट और रोबोकॉल दर्शाते हैं कि उनकी टीम या तो पेंसिल्वेनिया चुनाव कानून के बारे में कुछ नहीं जानती या वे इस बात से डरे हुए हैं कि हम उन्हें हराने वाले हैं। डोनॉल्ट ट्रंप अपनी घटिया राजनीति खेल रहे हैं, अमेरिका बेहतर का हकदार है और उन्हें ओहियोवासियों से झूठ बोलने के कारण उनसे माफी मांगनी चाहिए।’’ ट्रंप की रैलियों में विरोध प्रदर्शनों के बाद मंगलवार (15 मार्च) के चुनाव में उनकी पहली परीक्षा होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App