ताज़ा खबर
 

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव: आयोवा वोटिंग में हारे डोनाल्ड ट्रम्प, हिलेरी क्लिंटन जीतीं

अमेरिका में राष्ट्रपति पद के चुनाव में डोनाल्ड ट्रम्प रिपब्लिकन पार्टी के शीर्ष दावेदार माने जा रहे हैं जबकि हिलेरी क्लिंटन डेमोक्रेटिक पार्टी की मजबूत दावेदार बनकर उभरी हैं...

Author डेसमोइनेस (अमेरिका) | February 2, 2016 16:13 pm
अमेरिका में राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प (बाएं) और हिलेरी क्लिंटन डेमोक्रेटिक पार्टी की मजबूत दावेदार बनकर उभरी हैं। (एपी फोटो)

टेक्सास के सीनेटर टेड क्रूज ने अमेरिका का आगामी राष्ट्रपति चुनने के लिए आयोवा में आज हुए रिपब्लिकन कॉकस में पद का उम्मीवार बनने के पार्टी के विवादास्पद दावेदार डोनाल्ड ट्र्रम्प को सनसनीखेज शिकस्त दी जबकि डेमोक्रेटिक कॉकस में हिलेरी क्लिंटन और बर्नी सैंडर्स दोनों ने जीत का परचम लहराया। आयोवा कॉकस के परिणाम घोषित होने के बाद ऐसा प्रतीत हो रहा है कि राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार बनने के लिए मुख्य रूप से तीन दावेदारों के बीच मुकाबला होगा। आयोवा में क्रूज और ट्रम्प के बाद मार्को रूबियो कड़ी टक्कर देते हुए तीसरे स्थान पर रहे। लगभग सभी मतों की गिनती के बाद क्रूज को कुल मतों के 28 प्रतिशत मत मिले जबकि ट्रंप को 24 प्रतिशत वोट मिले। क्रूज को ट्रम्प के मुकाबले 5500 से अधिक वोट मिले। रूबियो 23 प्रतिशत मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे। न्यूरोसर्जन से राजनेता बने बेन कार्ल्सन चौथे स्थान पर रहे लेकिन उन्हें मात्र नौ प्रतिशत मत मिले।

डेमोक्रेटिक खेमे में पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी और सैंडर्स के बीच बेहद नजदीकी मुलाबला रहा और दोनों ने लगभग 50-50 प्रतिशत वोट प्राप्त किए। अमेरिका की पहली महिला राष्ट्रपति बनने की कोशिश में जुटी हिलेरी को करीब 90 प्रतिशत मतों की गणना में 49.8 प्रतिशत वोट मिले जबकि कई सप्ताह पूर्व 20 से अधिक अंकों से पीछे चल रहे सैंडर्स को 49.5 प्रतिशत मत मिले। लोकतांत्रिक समाजवाद में भरोसा करने वाले सैंडर्स ने अपनी जीत की घोषणा की। ट्रम्प ने आयोवा में दूसरे स्थान पर रहने के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया देते हुए कहा, हम दूसरे स्थान पर रहे। मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूं। मैं टेड (क्रूज) को बधाई देता हूं। उन्होंने परिणाम घोषित होने के बाद एक प्रचार मुहिम समारोह में कहा कि उन्होंने जब 16 जून 2015 में अपनी प्रचार मुहिम शुरू की थी, तब उन्होंने आयोवा में दूसरे स्थान पर रहने की उम्मीद नहीं की थी। उन्होंने न्यू हैम्पशायर और दक्षिण कैरोलिना में होने वाले आगामी प्राइमरी चुनाव का जिक्र करते हुए पार्टी का नामांकन जीतने पर भरोसा जताया।

ट्रम्प ने कहा, हम रिपब्लिकन पार्टी की उम्मीदवारी जीतेंगे। उन्होंने दावा किया कि वह संभावित डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी या सैंडर्स को हराएंगे। आयोवा के बाद व्हाइट हाउस की जंग अब न्यू हैम्पशायर में पहुंचेगी जहां नौ फरवरी को प्राइमरी चुनाव होने हैं और इसके बाद दक्षिण कैरोलिना में चुनाव होंगे। चुनाव पूर्व के ताजा सर्वेक्षण के अनुसार इन दोनों राज्यों में ट्रम्प बड़े अंतर से आगे चल रहे हैं। इस बीच राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी का उम्मीदवार बनने के तीसरे दावेदार मार्टिन ओ माले ने अपनी मुहिम बीच में ही रोकने की घोषणा की। रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार बनने के दावेदार माइक हुकाबी ने भी अपनी मुहिम बीच में ही समाप्त करने की घोषणा की। रूबियो और ट्रम्प दोनों ने उनका समर्थन प्राप्त करने के मकसद से उनकी प्रशंसा की। राजनीतिक पंडितों के अनुसार रिपब्लिकन पार्टी में सबसे अधिक रूबियो ने हैरान किया जिन्हें 23 प्रतिशत मत मिले। उन्हें चुनाव परिणाम संबंधी किए गए हर सर्वेक्षण से कहीं अधिक मत मिले हैं।

आयोवा में जीत प्राप्त करने के बाद क्रूज ने कहा, आज रात मिली जीत साहसी कंजर्वेटिव की जीत है। आयोवा ने यह संदेश दिया है कि आगामी रिपब्लिकन उम्मीदवार या राष्ट्रपति का चुनाव मीडिया नहीं करेगा, उसका चुनाव लॉबीस्ट नहीं करेंगे या केवल वाशिंगटन का निवासी नहीं करेगा… उसका चुनाव अमेरिकी लोग करेंगे। उन्होंने समर्थकों की तालियों की गड़गड़ाहट के बीच कहा, आज रात आयोवा ने विश्व में यह उद्घोषणा की कि सुबह हो रही है।

पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन और बेटी चेल्सी क्लिंटन के साथ खड़ी हिलेरी ने अपनी जीत की घोषणा करते हुए कहा, मैं लोगों की खातिर चीजें करने के लिए प्रगतिशील हूं। यथास्थिति अच्छी बात नहीं है। इस बीच सैंडर्स ने कहा, आयोवा ने आज रात क्रांति की शुरूआत की है। उन्होंने कहा, अब बहुत हो चुका। हमारी सरकार लोगों की सरकार है और यह केवल अरबपतियों की सरकार नहीं है। सैंडर्स ने अन्य राज्यों में भी अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद व्यक्त करते हुए कहा, हम अरबपति वर्ग और कॉरपोरेट अमेरिका के हित का प्रतिनिधित्व नहीं करते। अमेरिकी लोगों ने छलावे वाली अर्थव्यवस्था को नकार दिया है। उन्होंने कहा कि अमेरिका एक क्रांतिकारी विचार के लिए तैयार है। उन्होंने न्यूनतम वेतन 15 डॉलर प्रति घंटा तक बढाने और महिलाओं को समान वेतन दिए जाने का वादा किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App