ताज़ा खबर
 

अमेरिकाः नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को टालना चाहते हैं डोनाल्ड ट्रंप, जताई चुनाव में गड़बड़ी की आशंका

अमेरिका में हर चार साल में नवंबर के पहले सोमवार के बाद आने वाले मंगलवार को राष्ट्रपति चुनाव की तारीख निश्चित है, हालांकि संसद की मंजूरी के बाद इन तारीखों को बदला जा सकता है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र वॉशिंगटन | Updated: July 30, 2020 11:36 PM
Donald trump, Covid-19, Chinaअमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। (फाइल फोटो)

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस साल नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को टालने का सुझाव दिया है। ट्विटर पर एक ट्वीट के जरिए ट्रंप ने इस ओर इशारा किया। उन्होंने कहा कि पोस्टल वोटिंग में बढ़ोतरी से गड़बड़ी और गलत नतीजे आ सकते हैं। ट्रंप ने कहा कि चुनाव को तब तक के लिए टाल दिया जाए, जब तक लोग कायदे से, सुरक्षित और भरोसे के साथ वोटिंग न करें।

गौरतलब है कि अमेरिका में 3 नवंबर को वोटिंग होनी है। इसमें अब 4 महीने का समय ही बचा है। राष्ट्रपति चुनाव के अब तक जितने भी ओपिनियल पोल्स आए हैं, उनमें ट्रंप के खिलाफ खड़े हो रहे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन को चुनाव जीतने के करीब माना जा रहा है। ऐसे में ट्रंप के लिए आगामी चुनाव काफी संघर्षों से भरा हो सकता है।

अमेरिका में कोरोनावायरस महामारी से बिगड़ते हालात को देखते हुए कई राज्य पोस्टल वोटिंग कराने के पक्ष में नजर आए हैं। हालांकि, ट्रंप का कहना है कि मेल-इन वोटिंग से यह चुनाव इतिहास के सबसे गड़बड़ और धोखाधड़ी भरे बन जाएंगे। ये अमेरिका के लिए बड़ी शर्मिंदगी होगी। ट्रंप ने बिना कोई सबूत दिए कहा कि पोस्टल वोटिंग बाहरी दखल से प्रभावित हो सकती है। उन्होंने कहा कि विपक्षी डेमोक्रेट्स वोटिंग में विदेशी दखल की बात करते हैं, लेकिन वे जानते हैं कि पोस्टल वोटिंग से बाहरी देश आसानी से चुनाव में हस्तक्षेप कर सकते हैं।

क्या अमेरिका में बदल सकती हैं राष्ट्रपति चुनाव की तारीख?
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव की तारीख बदलने की ताकत सिर्फ और सिर्फ संसद के पास है। राष्ट्रपति ट्रंप खुद इन तारीखों में कोई बदलाव नहीं कर सकते। अगर चुनाव की तारीखों में बदलाव होना है, तो इसके लिए संसद के दोनों सदनों- हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स और सीनेट की मंजूरी की जरूरत होगी। इसमें एक समस्या यह है कि हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स में डेमोक्रेट पार्टी का बहुमत है और उसके कई नेता पहले ही चुनाव में किसी देरी से इनकार कर चुके हैं।

कांग्रेस की तरफ से चुनाव को टालने के किसी भी फैसले के लिए संविधान में संशोधन करने की जरूरत भी पड़ेगी। नए संशोधन के जरिए कांग्रेस के सदस्यों और नए राष्ट्रपति प्रशासन के शपथ ग्रहण की तारीख को बदलना पड़ेगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मॉरीशस के पीएम ने नरेंद्र मोदी का सूत्र दोहराया, VC में कहा- आपसे ही सीखकर न्यायपालिका में किया बड़ा निवेश
2 रास्ते में जहां खड़े थे पांच राफेल लड़ाकू विमान और भारतीय पायलट, ईरान ने वहां दागीं दनादन कई मिसाइल
3 पीएम मोदी को डिवाइडर इन चीफ बताने वाले लेखक को मिली अमेरिकी नागरिकता, भारत ने वापस लिया था OCI कार्ड
ये पढ़ा क्या?
X