ताज़ा खबर
 

1945 में जहां अमेरिका ने गिराया था दुनिया का पहला परमाणु बम, उस जगह 70 साल बाद पहुंचा कोई अमेरिकी राष्‍ट्रपति

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने हिरोशिमा स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए कहा, ‘71 वर्ष पहले आसमान से मौत गिरी थी और दुनिया बदल गई थी।’

Author हिरोशिमा | May 27, 2016 5:01 PM
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा पुष्पांजलि अर्पित करने के लिए हिरोशिमा स्मारक की ओर जाते हुए। साथ में खड़े हैं जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे। (एपी फोटो)

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने जापान के हिरोशिमा की अपनी ऐतिहासिक यात्रा के दौरान विश्व के पहले परमाणु हमले के पीड़ितों को शुक्रवार (27 मई) को श्रद्धांजलि अर्पित की। ओबामा इस स्थल का दौरा करने वाले अमेरिका के पहले सत्तारूढ नेता बन गए। उन्होंने स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए कहा, ‘71 वर्ष पहले आसमान से मौत गिरी थी और दुनिया बदल गई थी।’

ओबामा जब पुष्पांजलि अर्पित कर रहे थे तब वह उदास लग रहे थे। उन्होंने अपना सिर झुकाया हुआ था और पीछे हटने से पहले वह थोड़ा रुके और अपनी आंखें बंद की। उन्होंने जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे को पुष्पांजलि अर्पित करते हुए देखा। उन्होंने कहा कि बम ने ‘यह दिखाया कि मानव जाति के पास स्वयं को नष्ट करने का जरिया है।’

उन्होंने कहा, ‘हम इस स्थान हिरोशिमा पर क्यों आये? हम उस भयावह ताकत के बारे में मंथन करने आये हैं जो हालिया अतीत में हमारे सामने घटित हुया था। हम मृतकों के प्रति शोक व्यक्त करने के लिए आए हैं।’

ओबामा ने कहा, ‘उनकी आत्माएं हमसे बात करती हैं, वे हमसे अपने भीतर झांकने के लिए कहती हैं, यह परखने के लिए कहती हैं कि हम कौन हैं।’ उन्होंने कहा, ‘प्रौद्योगिकी प्रगति मानवीय संस्थानों में बराबर की प्रगति के बिना हमें बर्बाद कर सकती है। वैज्ञानिक क्रांति जिसके चलते परमाणु विखंडन हुआ उसके लिए एक नैतिक क्रांति की भी जरूरत है।’

उन्होंने कहा, ‘इसी कारण से हम शहर के बीचोंबीच स्थित इस स्थान पर आए हैं, हम यहां खड़े हुए हैं और स्वयं को उस क्षण को याद करने के लिए मजबूर कर रहे हैं जब बम गिरा था।’ ओेबामा ने कहा, ‘हम स्वयं को इसके लिए बाध्य कर रहे है कि हम उन बच्चों के भय को महसूस करें जो वे अपने आसपास के मंजर को देखकर घबराये हुए थे। हम विलाप की मूक आवाज सुन रहे हैं।’

इस बीच बीजिंग से मिली खबर के अनुसार चीन की सरकारी मीडिया ने कहा कि ‘जापान पर परमाणु हमला उसके स्वयं के कृत्यों का परिणाम था।’ चीन की सरकारी ‘चाइना डेली’ ने गुरुवार (26 मई) को प्रकाशित संपादकीय में कहा कि बम हमला जापान के ‘अपने कृत्यों का नतीजा’ था। उसने जापान के वर्तमान समय के अधिकारियों पर ‘जापान को प्रथम विश्वयुद्ध के प्रमुख दोषियों के बजाय पीड़ित के तौर पर पेश करने का आरोप लगाया।’

वहीं सोल से मिली खबर के अनुसार उत्तर कोरिया ने ओबामा की ‘बचकानी’ हिरोशिमा यात्रा की हंसी उड़ाई। उत्तर कोरिया की सरकारी केसीएनए संवाद समिति ने कल कहा कि ओबामा का अमेरिका के राष्ट्रपति के तौर पर 1945 परमाणु बम हमला स्थल का दौरा करने का निर्णय चौंकाने वाला पाखंडी कृत्य है। उसने कहा, ‘यह एक बचकानी राजनीतिक पहल है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X