ताज़ा खबर
 

हार्वे पीड़ितों के लिए NRI अमेरिकी जोड़े ने दिखाया बड़ा दिल, दान किए 1.6 करोड़ रुपये

एक भारतीय अमेरिकी दम्पति ने हार्वे तूफान से मची तबाही के बाद शुरू किए गए राहत कार्यो के लिए ह्यूस्टन मेयर के कोष में दो लाख 50 हजार डॉलर की राशि यहां दान की।
Author ह्यूस्टन (अमेरिका) | September 25, 2017 16:24 pm
ह्यूस्टन निवासियों अमित भंडारी और उनकी पत्नी अर्पिता ब्रह्मभट्ट भंडारी ने दान किए USD 250,000

एक भारतीय अमेरिकी दम्पति ने हार्वे तूफान से मची तबाही के बाद शुरू किए गए राहत कार्यो के लिए ह्यूस्टन मेयर के कोष में दो लाख 50 हजार डॉलर की राशि यहां दान की। ऊष्ण कटिबंधीय तूफान हार्वे ने अमेरिका के टेक्सास में इस माह के शुरू में भारी तबाही मचाई थी जिससे उबरने के लिए ये राहत कार्य शुरू किए गए हैं। ह्यूस्टन निवासियों अमित भंडारी और उनकी पत्नी अर्पिता ब्रह्मभट्ट भंडारी ने कल यहां एक निजी समारोह में तूफान हार्वे के बाद किए जा रहे राहत कार्यों के लिए ग्रेटर ह्यूस्टन कम्युनिटी फाउंडेशन की ओर से मेयर सिल्वेस्टर टर्नर को यह राशि दी।

भंडारी ऊर्जा एवं कृषि उत्पाद ट्रेडिंग कंपनी बॉयोऊर्जा ग्रुप के सीईओ हैं जिसके कार्यालय विश्वभर में हैं। हार्वे तूफान के कारण हुई तबाही के बाद राहत एवं पुनर्वास प्रयासों में मदद के मकसद से भारतीय अमेरिकी समुदाय मिलकर कोष एकत्र कर रहा है। समुदाय के मुख्य सदस्य समारोह में एकत्र हुए और उन्होंने भंडारी दम्पति को धन्यवाद दिया। समुदाय ने और कोष एकत्र करने का संकल्प लिया। समुदाय गर्वनर एवं मेयर कोषों के लिए 10 लाख डॉलर एकत्र करने की ओर अग्रसर है।

टर्नर ने दिल खोलकर मदद करने के लिए भारतीय अमेरिकी समुदाय को धन्यवाद दिया और कहा, ‘‘भारतीय अमेरिकी समुदाय का योगदान तूफान हार्वे के बाद से ही शुरू नहीं हुआ। वे लंबे समय से इस शहर के लिए योगदान दे रहे हैं। भारतीय समुदाय इस शहर के लिए अहम हैं और यह ह्यूस्टन को एक महान शहर बनाने में मदद करता आया है।’’ भंडारी ने कहा कि समुदाय के स्वयंसेवकों ने विभिन्न माध्यमों से 700 लोगों के बचाव कार्य में मदद की।

उन्होंने कहा कि तूफान हार्वे के बाद राहत कार्यों से जुड़े विभिन्न परमार्थ संगठनों को समुदाय ने 15 लाख डॉलर की मदद दी है।
ह्यूस्टन में भारत के महावाणिज्यदूत डॉ अनुपम राय ने भी भारतीय अमेरिकी समुदाय के प्रयासों के लिए उनकी प्रशंसा की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.