US, Pakistan, Indian MPs in US, support for Pakistan, US support, terrorism, safe haven, US news, Pakistan news, world news, latest news, Indian express - Jansatta
ताज़ा खबर
 

विश्व मंच पर अलग-थलग पड़ा पाक, अमेरिकी सांसदों ने आतंकवाद फैलाने वाला देश घोषित करने के लिए किया बिल पेश

अमेरिका के दो प्रभावशाली सांसदों ने पाकिस्तान को आतंकवाद प्रायोजित करने वाला देश घोषित करने के लिए प्रतिनिधि सभा में एक विधेयक पेश किया है।

Author वाशिंगटन | September 22, 2016 1:56 AM
भारत की पूरी कोशिश है कि दुनिया पाक को आतंकवाद का जनक और हमदर्द माने।

उड़ी हमले के बाद बने पाकिस्तान विरोधी माहौल के बीच प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने जो राग कश्मीर छेड़ा था, वह ढीला पड़ सकता है। पाक फौज के मुखिया राहील शरीफ से नवाज की बातचीत के बाद ये संकेत मिले हैं। इस बीच अमेरिका के दो प्रभावशाली सांसदों ने पाकिस्तान को आतंकवाद प्रायोजित करने वाला देश घोषित करने के लिए प्रतिनिधि सभा में एक विधेयक पेश किया है। पाकिस्तान के लिए यह एक झटका है, क्योंकि नवाज शरीफ कश्मीर मसले को लेकर भारत को घेरना चाहते थे। खास बात यह है कि शरीफ की कश्मीर हिंसा को जोरशोर से उठाने की मंशा थी। लेकिन उड़ी हमले से स्थिति बदल गई है और अब सरहद पार आतंकवाद का मुद्दा छा गया है। भारत की पूरी कोशिश है कि दुनिया पाक को आतंकवाद का जनक और हमदर्द माने।

उधर पाकिस्तान के खिलाफ बिल पेश करने वाले अमेरिका के दो प्रभावशाली सांसदों ने कहा- अब समय आ गया है कि अमेरिका पाकिस्तान को उसके विश्वासघात के लिए धन देना बंद कर दे। रिपब्लिकन पार्टी के टेड पो और डेमोक्रेटिक पार्टी से कांग्रेस सदस्य डाना रोहराबाचर ने पाकिस्तान स्टेट स्पांसर आॅफ टेररिज्म डेजिगनेशन एक्ट (एचआर 6069) पेश किया। रोहराबाचर आतंकवाद पर कांग्रेस की प्रभावशाली समिति के रैंकिंग सदस्य हैं। आतंकवाद पर सदन की उपसमिति के अध्यक्ष पो ने कहा, अब समय आ गया है कि हम पाकिस्तान के विश्वासघात के लिए उसे धन देना बंद कर दें और उसे वह घोषित करें जो वह है- आतंकवाद प्रायोजित करने वाला देश। पो ने कहा- पाकिस्तान विश्वास न करने योग्य ही नहीं है। वह अमेरिका के शत्रुओं की बरसों से मदद करता आया है और उन्हें बढ़ावा देता रहा है। उसामा बिन लादेन को शरण देने से लेकर हक्कानी नेटवर्क के साथ उसके निकट संबंध इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ जंग में किसकी ओर है। पो ने कहा- इस विधेयक की जरूरत है कि ओबामा प्रशासन इस सवाल का औपचारिक जवाब दे।

राष्ट्रपति बराक ओबामा को इस विधेयक के पारित होने के 90 दिनों में एक रिपोर्ट जारी कर बताना होगा कि पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद को समर्थन मुहैया कराया है या नहीं। इसके 30 दिन बाद विदेश मंत्री को एक और रिपोर्ट जारी करनी होगी जिसमें उन्हें या तो पाकिस्तान को आतंकवाद को प्रायोजित करने वाला देश कहना होगा या फिर सफाई देनी होगी कि कानूनी रूप से पाकिस्तान को आतंकवाद प्रायोजित करने वाला देश क्यों घोषित नहीं किया जा सकता। कांग्रेस के एक अन्य सदस्य पीट ओल्सन ने कहा कि मैं कश्मीर में भारतीय सैन्य अड्डे पर हुए आतंकी हमले की कड़ी निंदा करता हूं जिसमें 18 भारतीय जवानों की जान चली गई। भारत शांति स्थापना में मजबूत साझेदार व सहयोगी है। उन्होंने कहा, मैं इस घृणित कृत्य को अंजाम देने वालों को खोजने के हर प्रयास का समर्थन करता हूं, ताकि अपराधियों को न्याय के दायरे में लाया जा सके। मैं पीड़ितों के परिजनों के प्रति संवेदनाएं प्रकट करता हूं।

सीनेट-इंडिया कॉकस के सह-अध्यक्ष सीनेटर जॉन कोर्निन ने एक स्टोरी ट्वीट की है जिसमें कहा गया है कि भारतीय सेना को एक दशक में यह सबसे बड़ा झटका लगा है। ओवरसीज फ्रेंड्स आॅफ बीजेपी (ओएफबीजेपी) यूएसए ने कहा कि पाकिस्तान पिछले 30 सालों से आतंकवाद को प्रायोजित कर रहा है ताकि वह सीमापार से अपने नापाक इरादों को अंजाम दे सके। पाकिस्तान वैश्विक आतंकवाद का उद्गम स्थल व केंद्र बन गया है। ओएफबीजेपी-यूएसए का मानना है कि उड़ी में पाकिस्तान ने भारतीय सेना पर जो हमला किया है उसे पाकिस्तान की ओर से भारत के खिलाफ युद्ध के रूप में देखा जाना चाहिए। भारत को पाकिस्तान को कड़ा सबक सिखाने के लिए जवाबी कार्रवाई करनी चाहिए।

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App