ताज़ा खबर
 

अहम अमेरिकी सांसद पाकिस्तान को सैन्य सहायता के हक में नहीं

विदेश विभाग की प्रवक्ता एलिजाबेथ ट्रूड्यू ने हालांकि यह नहीं बताया कि अमेरिकी सांसद पाकिस्तान को सैन्य सहायता पहुंचाये जाने से पहले उससे कौन सी खास कार्रवाई चाहते हैं।
Author वॉशिंगटन | May 13, 2016 19:48 pm
अमेरिका ने पाकिस्तान को एफ-16 विमान सौदे में छूट से इंकार कर दिया था। (Photo-AP)

ओबामा प्रशासन ने कहा है कि अमेरिका के प्रमुख सांसद पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद के खिलाफ ठोस कार्रवाई किए बगैर उसे अमेरिकी सैन्य सहायता जारी रखने के हक में नहीं हैं। विदेश विभाग की प्रवक्ता एलिजाबेथ ट्रूड्यू ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘कांग्रेस के महत्वपूर्ण सदस्य इस बात पर स्पष्ट हैं कि वे आतंकवाद के खिलाफ किसी ठोस कार्रवाई के बिना पाकिस्तान को सैन्य सहायता पहुंचाने में अमेरिका का साथ देने को तैयार नहीं हैं।’’ एलिजाबेथ ने हालांकि यह नहीं बताया कि अमेरिकी सांसद पाकिस्तान को सैन्य सहायता पहुंचाये जाने से पहले उससे कौन सी खास कार्रवाई चाहते हैं।

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘मैं कहना चाहूंगी कि आप कांग्रेस विशेषकर उन सदस्यों से उनके रुख के बारे में स्पष्टीकरण के लिए सपंर्क करें। हमेशा से हम अपने साझेदारों एवं सहयोगियों को सुरक्षा सहायता पहुंचाने के लिए कांग्रेस के साथ मिलकर काम करने को कटिबद्ध हैं। यह साझी सुरक्षा चुनौतियों को पूरा करने के लिए क्षमता विकास द्वारा अमेरिकी लक्ष्यों को आगे बढ़ाता है।’’

जब यह पूछा गया कि क्या विदेश विभाग इस बात की पुष्टि करने को तैयार है कि इस्लामाबाद हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ पर्याप्त कदम उठा रहा है, एलिजाबेथ ने कहा, ‘‘हमने हक्कानी पर भी अपने दृष्टिकोण के बारे में बातचीत की है और हम कैसे इस बात को देखते हैं कि पाकिस्तान को क्या करने की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने कहा है कि वह आतंकवादी संगठनों के संदर्भ में भेदभाव नहीं करेगा। उन्होंने कहा, ‘‘हम उसे इस भरोसे पर खरा उतरने को प्रोत्साहित करते रहेंगे।’’

इसी बीच न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपने संपादकीय में अमेरिकी करदाताओं के धन पर पाकिस्तान को आठ एफ-16 लड़ाकू जेट की बिक्री करने पर स्थगन लगाने को लेकर सीनेट की विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष बॉब कार्कर की प्रशंसा की। संपादकीय के अनुसार श्री कॉर्कर ने कहा कि यदि पाकिस्तान अफगानिस्तान और वहां मौजूद अमेरिकी सैनिकों के लिए खतरा नंबर एक हक्कानी नेटवर्क पर कार्रवाई करता है कि वह सहायता पर स्थगन हटा लेंगे। पाकिस्तान के दोहरे खेल से अमेरिकी अधिकारी आजिज आ गए हैं। अब वाशिंगटन में पाकिस्तान सेना पर और दबाव डालने के प्रयास हो रहे हैं।

इस संपादकीय पर अमेरिका में पाकिस्तान के राजदूत जलील अब्बास जिलानी ने कहा कि दोहरेपन और दोहरे खेल के आरोप बहुत पीड़ादायक हैं खासकर तब जब उनके देश ने अफगानिस्तान में युद्ध के चलते काफी नुकसान उठाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.