ताज़ा खबर
 

अमेरिका: भारतीय मूल के बिजनेसमैन की दुकान के बाहर गोली मारकर हत्या

यूएस में एक भारतीय मूल के बिजनेसमैन की गोली मारकर जान ले गई।

अमेरिका में 43 वर्षीय भारतीय मूल के एक व्यवसायी की उसके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस घटना के कुछ दिन पहले ही अमेरिका के कंसास में एक घृणा अपराध में भारतीय मूल के एक इंजीनियर को गोली मार दी गई थी जिसके बाद उसकी मौत हो गई थी। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि 43 वर्षीय हरनिश पटेल, दक्षिण अमेरिका के लैंकेस्टर काउंटी में एक स्टोर का मालिक था। गुरच्च्वार को उसे उसके घर के सामने के यार्ड में मृत पाया गया। उसके शव पर बंदूक की गोली के जख्म के निशान थे। द हेराल्ड की खबर के अनुसार पटेल अपना स्टोर बंद कर अपनी सिल्वर रंग की मिनीवैन मैं बैठकर पास में स्थित अपने घर गया था और अधिकारियों का मानना है कि वहां उसका सामना उसके हत्यारे से हुआ होगा।

पुलिस ने बताया कि उसके मृत पाये जाने से बामुश्किल 10 मिनट पहले ही उसने स्टोर बंद किया था। घटना ने अमेरिका में रहने वाले भारतीय समुदाय के लोगों को स्तब्ध कर दिया है। एफबीआई घृणा अपराध मानकर इसकी जांच कर रही है। भारतीय समुदाय के लोग कंसास के गर्वनर सैम ब्राउनबैक से मिले और राज्य में भारतीय अमेरिकियों की सुरक्षा को लेकर उनका आश्वासन मांगा। वाशिंगटन डीसी एवं उसके आसपास तथा उसके उपनगरीय इलाकों में रहने वाले कई भारतीय अमेरिकी राष्ट्रीय राजधानी के ड्यूपोंट सर्किल पर जमा हुए और कुचिभोटला की स्मृति में कैंडल लाइट मार्च निकाला।

वर्जीनिया में रहने वाले रिपब्लिकन पार्टी के भारतीय अमेरिकी नेता पुनीत अहलुवालिया ने कहा, ‘‘हर त्रासदी हम अमेरिकियों को एक दूसरे के करीब लाती है। एक देश के तौर पर हम हमेशा दुखों से उभरे हैं और आज शाम यह सुनिश्चित करने के लिए साथ खड़े हुए हैं कि हमें किसी और अमेरिकी को घृणा या हिंसा के कारण ना गंवाना पड़े। यह मायने नहीं रखता है कि आपकी नस्ल, धर्म या रंग क्या है। हमारी चोट एक ही है।’’

वर्ल्ड हिंदू काउंसिल के उत्सव चक्रवर्ती ने कहा कि दुखद घटना से इस तथ्य को लेकर जमीनी स्तर पर एक ईमानदार संवाद की जरूरत का पता चलता है कि कट्टरपंथी इस्लाम एक धार्मिक विचारधारा है, एक ‘‘नस्लीय पहचान’’ नहीं है क्योंकि नस्लीय पहचान का लगातार कायम रहना, हिंदुओं एवं सिखों सहित ‘‘अश्वेत लोगों’’ के खिलाफ इस तरह के बर्बर घृणा अपराधों को बनाए रखता है।

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App