ताज़ा खबर
 

भारत-अमेरिका के मजबूत संबंधों से दोनों देशों की अर्थव्यवस्था मज़बूत होगी: व्हाइट हाउस

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने कहा कि ओबामा को नरेन्द्र मोदी के रूप में एक प्रभावी वार्ताकार और सहयोगी मिल गया है।

Author वॉशिंगटन | Published on: August 26, 2016 11:18 AM
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (बाएं) और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा। (पीटीआई फाइल फोटो)

व्हाइट हाउस का कहना है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो दृष्टिकोण साझा किया था उसके अनुसार अमेरिका और भारत के मजबूत आर्थिक संबंधों से दोनों देशों में रोजगार के अवसर पैदा हो सकते हैं और उनकी अर्थव्यव्स्था भी दृढ़ होगी। व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने गुरुवार (25 अगस्त) को यहां संवाददाताओं को बताया, ‘राष्ट्रपति का मानना है कि दोनों देशों के बीच प्रभावी सहयोग से दोनों देशों की अर्थव्यवस्था में सुधार हो सकता है, रोजगार के अवसर पैदा हो सकते है और अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन मिल सकता है। और मुझे मालूम है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रपति ओबामा से इसी प्रकार के लक्ष्य साझा किए हैं।’

उन्होंने कहा कि ओबामा को इन लक्ष्यों को पूरा करने के लिए नरेन्द्र मोदी के रूप में एक प्रभावी वार्ताकार और सहयोगी मिल गया है। उन्होंने बताया, ‘राष्ट्रपति अपने कार्यकाल के शुरूआती साढ़े सात साल के दौरान हुई प्रगति से खुश हैं और हम अगले पांच माह भी ऐसे प्रयास करते रहेंगे।’ अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी और वाणिज्य मंत्री पेन्नी प्रित्जकर अगले सप्ताह दूसरी रणनीतिक एवं वाणिज्यिक वार्ता (एस एंड सीडी) के लिए भारत जाएंगे। संभवत: यह भारत और निवर्तमान होने जा रहे ओबामा प्रशासन के बीच अंतिम वार्ता होगी।

इसी दौरान भारत के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर अमेरिका में अपने समकक्ष एश्टन कार्टर से मिलने के लिए अमेरिका आएंगे। ओबामा और मोदी की अगले माह चीन में जी-20 शिखर सम्मेलन से अलग, मुलाकात की संभावना है। हालांकि अभी इस बारे में आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। अर्नेस्ट ने बताया कि ओबामा ने अमेरिका और भारत के संबंधों को मजबूती प्रदान करने के लिए पर्याप्त समय और संसाधन लगाए हैं।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘ओबामा दो मौकों पर भारत गए और मैं पूरे विश्वास से कह सकता हूं कि उनके दोनों दौरे दुनिया के दो बड़े लोकतंत्रों के बीच राजनीतिक संबंधों को मजबूती प्रदान करने के लिए थे। इसके साथ ही उन्होंने दोनों देशों के बीच मजबूत आर्थिक संबंधों को और अधिक दृढ़ करने के भी प्रयास किए।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अर्जेन्टीना में सैन्य शासन के विरोधियों को प्रताड़ित करने के लिए 28 को उम्रकैद
2 VIDEO: भूकंप के बाद 18 घंटे तक लाशों के ढेर के बीच दबी रही 10 साल की बच्‍ची
3 सीरिया संघर्ष: जॉन केरी पहुंचे जिनीवा, रूसी समकक्ष सर्गेई लावरोव से करेंगे चर्चा
जस्‍ट नाउ
X