ताज़ा खबर
 

शट डाउन: पांच साल बाद ठप पड़ा अमेरिकी सरकार का कामकाज, जानें क्या होगा असर

डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के पहले साल में ही अमेरिका का पाला शट डाउन जैसे गंभीर संकट से पड़ गया है, इसी के साथ नौकरीपेशा लोग मुसीबत में पड़ गए हैं, हजारों कर्मियों को भेजा जा रहा अनपेड लीव पर।

Author नई दिल्ली | January 20, 2018 4:37 PM
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फोटो सोर्स- REUTERS)

पांच साल बाद अमेरिका में फिर से शट डाउन का दौर शुरू हुआ है। इसके चलते अब पूरे देश में सरकारी कामकाज ठप जाएगा। सिक्योरिटी सेक्टर  को छोड़ बाकी जगहों के गैरजरूरी संघीय कर्मियों को छुट्टी पर भेजा जा रहा है। जिससे एक बार फिर अमेरिका में नौकरियों पर संकट छा गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए यह बड़ा झटका है, क्योंकि यह संकट ऐसे वक्त आया है, जब पद संभाले हुए एक साल पूरे हो रहे हैं। इससे पहले 2013 में ओबामा के कार्यकाल में अमेरिका में शट डाउन हुआ था, जब एक फंडिंग बिल के मुद्दे पर सदन में पक्ष-विपक्ष के बीच गतिरोध पैदा हुआ था।

राष्ट्रपति ट्रंप और  कांग्रेस ने  शट डाउन को रोकने के लिए अपने स्तर से काफी कोशिश की। बावजूद इसके  अल्पकालिक विधेयक पास नहीं हो सका।  बिल पारित होने के लिए कुल सौ सदस्यीय सीनेट में 60 वोटों की दरकार थी मगर 50 वोट ही हासिल हुए। वजह कि रिपब्लिकन और डेमोक्रेट के बीच इस बिल के मुद्दे पर आम राय कायम नहीं हो सकी। सत्ताधारी रिपब्लिकन पार्टी के बहुमत वाली प्रतिनिधि सभा में तो यह बिल आसानी से पास हो गया, मगर सीनेट में रिपब्लिकन पार्टी का बहुमत होने के बावजूद इसे पारित होने के लिए विपक्षी डेमोक्रेट के सहयोग की जरूरत थी। मगर सहयोग और समर्थन नहीं मिल सका।  शुक्रवार मध्य रात्रि को सरकारी फंडिंग से जुड़े विधेयक को पास होने से रोकने के इस कदम के पीछे विपक्षी डेमोक्रेटिक की खास रणनीति बताई जा रही है, ताकि ट्रंप को अवैध अप्रवासियों से जुड़े इमिग्रेशन मामले में बैकफुट पर आने के लिए मजबूर किया जा सके। व्हाइट हाउस ने एक स्टेटमेंट में शट डाउन का ठीकरा डेमोक्रेट्स के सिर पर फोड़ते हुए उन्हें ‘लूजर्स’ नहीं ‘लेजिस्लेटर्स’ कहा। बता दें कि जिस विधेयक को ट्रंप पारित कराना चाह रहे थे, वह अमेरिका में संघीय सरकार को आर्थिक मंजूरी प्रदान करने वाला था। अमेरिकी कांग्रेस के निचले सदन प्रतिनिधि सभा ने तो इसे पारित कर दिया था, मगर ऊपरी सीनेट में पारित होने के दौरान बाधा आई।

गतिरोध की वजहः दरअसल इमीग्रेशन का मुद्दा अमेरिका में काफी समय से छाया हुआ है। विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी चाहती है कि उन सात लाख लोगों को निर्वासन से बचाया जाए, जो मैक्सिको और मध्य एशिया से अमेरिका में आए थे, इन सभी को ओबामा के कार्यकाल में अस्थाई कानूनी दर्जा मिला था। मगर रिपब्लिकन पार्टी और ट्रंप इससे असहमत हैं। बिल पारित होने के दौरान आई बाधाओं को लेकर ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘‘ सीनेट से पारित कराने के लिए डेमोक्रेट की जरूरत है, लेकिन वे गैरकानूनी इमीग्रेशन और कमजोर सीमाएं चाहते हैं।”

क्या होता है शट डाउनः अमेरिका में शट डाउन के दौरान नौकरियों की बहुत बुरी स्थिति होती है। शट डाउन की घोषणा के बाद सिक्योरिटी सेक्टर छोड़कर बाकी जगहों के गैर-जरूरी संघीय कर्मियों को छुट्टी पर भेज दिया जाता है। वो भी अनपेड लीव पर। जिससे कर्मियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। 1990 के बाद से अब तक पांच बार अमेरिका में शट डाउन की नौबत आ चुकी है। 1990 में जार्ज एच-डब्ल्यू बुश, 1995 में बिल क्लिंटल, 2013 में ओबामा और अब जाकर 20 जनवरी से ट्रंप के कार्यकाल में शट डाउन हुआ है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App