ताज़ा खबर
 

अमेरिका की पहली महिला मुस्लिम जज शीला अब्दुस-सलाम का निधन, न्यूयॉर्क की हडसन नदी में तैरता मिला शव

पोस्टमार्टम के बाद ही जज सलाम की मृत्यु के पीछे का कारण पता चल पाएगा।
Author न्यूयॉर्क | April 13, 2017 13:03 pm
बुधवार को जज सलाम के अपने न्यूयॉर्क घर से लापता होने की शिकायत दर्ज कराई गई थी। (Photo Source: Facebook)

अमेरिका की पहली महिला मुस्लिम जज शीला अब्दुस-सलाम की मृत्यु हो चुकी है। बुधवार को 65 वर्षीय जज सलाम का शव न्यूयॉर्क पुलिस ने हडसन नदी से प्राप्त किया। एक पुलिस अधिकारी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार न्यूयॉर्क हाई कोर्ट की एसोसिएट जज सलाम का शव नदी के पश्चिमी मैनहेटन की तरफ तैर रहा था। पुलिस ने नदी से जज सलाम को बाहर निकाला और जांच की तो पाया कि उनकी मृत्यु हो चुकी थी। अधिकारी ने बताया कि जज सलाम के परिवार ने उनके शव की पहचान कर ली है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। पोस्टमार्टम के बाद ही जज सलाम की मृत्यु के पीछे का कारण पता चल पाएगा।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार को जज सलाम के अपने न्यूयॉर्क घर से लापता होने की शिकायत दर्ज कराई गई थी। इसके बाद परिवार ने उन्हें ढूंढने की काफी कोशिश की लेकिन वह नहीं मिली। इसी बीच जांच में जुटी पुलिस को जज सलाम का शव नदी में तैरता दिखाई दिया। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जज सलाम के शरीर पर किसी भी तरह के चोट के निशान नहीं मिले हैं।

बारनर्ड कॉलेज और कॉलंबिया लॉ स्कूल से स्नातक कर चुकी जज शीला अब्दुस-सलाम ने अपने लॉ करियर की शुरुआत ईस्ट ब्रौकलिन लीगल सर्विस से की। इसके बाद उन्होंने 1991 से लेकर कई पदों पर काम किया था। वाशिंगटन की रहने वाली जज सलाम पहली मुस्लिम अफ्रीकी-अमेरिकी महिला थी जिन्हें कोर्ट की अपील के बाद डेमोक्रेटिक गवर्नर मारियो क्यूमो ने 2013 में राज्य हाई कोर्ट में नियुक्त किया था। क्यूमो ने बताया कि जज सलाम एक बहुत ही न्यायप्रिय जज थीं, जो कि निष्पक्ष फैसले लेती थीं। इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ था जब जस्टिस शीला अब्दुस-सलाम पहली महिला मुस्लिम जज बनी थीं।  क्यूमों ने कहा कि मुझे गर्व है कि मैंने उन्हें नियुक्त किया लेकिन बहुत गहरा दुख भी है कि आज वे हमारे साथ नहीं है।

देखिए वीडियो - अमेरिका: NRI महिला ने प्रेस सचिव से पूछा- 'कभी देशद्रोह किया?' जवाब मिला- 'हमारा देश महान जो आपको आने देता है'

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.