ताज़ा खबर
 

Video: पाकिस्तानी रक्षा मंत्री ने कहा- उड़ी हमले के पीछे खुद भारत का हाथ

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री का बयान ऐसे समय में आया है जब दोनों के बीच लगातार तल्खी बढ़ रही है।

Author नई दिल्ली | September 27, 2016 12:15 AM
पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा मुहम्मद आसिफ।

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने एक टीवी कार्यक्रम में इंटरव्यू के दौरान कहा है कि उड़ी हमला स्वयं भारत की साजिश है। 18 तारीख को जम्मू और कश्मीर में उड़ी सेक्टर पर आतंकवादी हमले में 18 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद से दोनों देशों के संबंधों में तल्खी और बढ़ गई। यूएन में पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ ने भारत पर कश्मीर में मानवाधिकार अधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाया था। इसके जवाब में भारत के तरफ से विदेस मंत्री सुषमा स्वराज ने बलोचिस्तान का मुद्दा उठाया था। भारत सिंधू नदी समझौते को रोकने पर विचार बना रहा है। दोनों देशों के बीच ऐसे तल्ख संबंधों के बीच पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ने भारत को परमाणु हमले की धमकी दी थी। ख्वाजा ने एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में साफ-साफ कहा कि अगर हमारी सलामती को खतरा हुआ और किसी ने हमारी जमीन पर कदम रखा तो हम इन हथियारों का इस्तेमाल करने से गुरेज नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई तो भारत पर परमाणु हमला करने से हम नहीं चूकेंगे।

इसके साथ ही ख्वाजा ने कहा कि कश्मीर पर हल बातचीत से ही निकल सकता है। शांति के लिए कश्मीर मसले का हल जरूरी है। भारत-पाक संबंधों में कश्मीर के बिना बातचीत का कोई मतलब नहीं है। पाकिस्तान के रक्षा मंत्री का बयान ऐसे समय में आया है जब दोनों के बीच लगातार तल्खी बढ़ रही है। हिज्बुल कमांडर बुरहान वानी की हत्या के बाद से ही दोनों देशों के संबंधों में लगातार खटास आई है। गौरतलब है कि ख्वाजा इससे पहले भी भारत को कई बार धमकी दे चुके हैं लेकिन उरी में हुए आतंकी हमले के बाद जहां भारत में गुस्सा है वहीं उनके इस बयान के बाद केंद्र सरकार क्या प्रतिक्रिया देती है यह देखने वाली बात होगी। आपको बता दें कि उरी में सेना के ब्रिगेड मुख्यालय पर हुए आतंकी हमले की पीएम मोदी ने कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा कि इसके पीछे के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App