ताज़ा खबर
 

अवैध तरीके से रहने वाले भारतीय छात्रों पर कार्रवाई करेगा अमेरिका

विदेश मंत्रालय के उप प्रवक्ता मार्क टोनर ने कहा कि अमेरिका में रुकने की अवधि को अवैध रूप से बढ़ाने की कोशिश करने वाले भारतीय छात्रों पर ही कार्रवाई की जाएगी।

Author वाशिंगटन | April 12, 2016 11:14 PM
(चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीक के तौर पर किया गया है।)

अमेरिका ने कहा है कि वह स्टिंग आॅपरेशन में पकड़े गए उन 300 से ज्यादा भारतीय छात्रों के खिलाफ कार्रवाई करेगा, जो कथित तौर पर अवैध तरीके से देश में रुकने की अवधि बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। विदेश मंत्रालय के उप प्रवक्ता मार्क टोनर ने सोमवार को कहा कि इनमें से अधिकतर लोग वैध छात्र वीजा पर आए हैं। मेरी समझ के अनुसार, यह तब हुआ, जब उन्होंने अमेरिका में अपने रहने की अवधि को बढ़ाने की कोशिश की। इन छात्रों की संख्या 306 है। इन्हें गृह सुरक्षा एवं आव्रजन व आबकारी प्रवर्तन मंत्रालय की ओर से कराए गए स्टिंग आॅपरेशन में पकड़ा गया था। इसके बाद पिछले सप्ताह 21 दलालों और मध्यस्थों को गिरफ्तार किया गया था, जिनमें भारतीय मूल के 11 लोग भी शामिल थे।

टोनर ने कहा कि अमेरिका में रुकने की अवधि को अवैध रूप से बढ़ाने की कोशिश करने वाले भारतीय छात्रों पर ही कार्रवाई की जाएगी। किसी भी ईमानदार छात्र को परेशान नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि छात्र वीजा पर यहां आने वाले ये लोग वैध तरीके से या तो काम करने या पढ़ने के लिए आए थे। वे छात्र वीजा के लिए योग्य साबित हुए थे। उन्होंने पात्रताएं पूरी की थीं। तब उन्हें छात्र वीजा जारी किए गए थे। उन्होंने कहा, यहां रहने के बाद ही, विश्वविद्यालय या कहीं और जाने के बाद ही उन्होंने कथित तौर पर फैसला किया कि अमेरिका में अपने रहने की अवधि को बढ़ाने के लिए इस आपराधिक संगठन की मदद ली जाए। यह एक अहम स्पष्टीकरण है।

एक सवाल के जवाब में टोनर ने कहा कि इन भारतीय छात्रों को वीजा भारत में स्थित अमेरिकी राजनयिक मिशनों की ओर से अमेरिका के मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थानों में पढ़ने के लिए जारी किए गए थे न कि उस नकली विश्वविद्यालय में पढ़ने के लिए, जिसका निर्माण गृहसुरक्षा मंत्रालय ने स्टिंग आॅपरेशन के तहत किया था। उन्होंने कहा कि वे यहां वैध तरीके से और वैध वीजा पर ही आए। यह वीजा का मामला नहीं है। यह इस बारे में है कि एक बार जब वे अमेरिका में आ गए, तो उन्होंने एक आपराधिक संगठन की मदद से अपने रुकने की अवधि बढ़ाने की कोशिश की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App