ताज़ा खबर
 

बीमार हुईं क्वीन एलिजाबेथ, मंत्रियों ने किया शोक मनाने के गुप्त रिहर्सल

इस रिहर्सल का नाम 'कैसल डव' था। इस रिहर्सल में कई कैबिनेट मंत्री भी मौजूद थे। इस रिहर्सल में मंत्रियों ने D+1 यानी महारानी के मौत के अगले दिन को लेकर चर्चा की। यह ब्रिटेन के इतिहास में पहला मौका है जब देश की सरकार में मंत्रियों ने महारानी के निधन से पहले इस तरह के रिहर्सल इतने बड़े पैमाने पर किया हो।

ब्रिटेन की महारानी क्वीन एलिजाबेथ

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय पिछले कुछ दिनों से बीमार हैं। उनके बीमार होने की वजह से बकिंघम पैलेस ने उनके पिछले हफ्ते की सारी मीटिंग्स कैंसिल कर दी थी। अब ‘एक्सप्रेस यूके’ ने इस संबंध में एक चौंकाने वाली खबर दी है।

शोक मनाने का गुप्त रिहर्सल: मी़डिया रिपोर्ट्स की मानें तो यूनाइटेड किंगडम पार्लियामेंट के कुछ वरिष्ठ मंत्रियों ने शोक मनाने का अभ्यास किया। हालांकि शोक मनाने का यह अभ्यास बेहद ही गोपनीय तरीके से किया गया। इस रिहर्सल का नाम ‘कैसल डव’ था। इस रिहर्सल में कई कैबिनेट मंत्री भी मौजूद थे। इस रिहर्सल में मंत्रियों ने D+1 यानी महारानी के मौत के अगले दिन को लेकर चर्चा की। यह ब्रिटेन के इतिहास में पहला मौका है जब देश की सरकार में मंत्रियों ने महारानी के निधन से पहले इस तरह के रिहर्सल इतने बड़े पैमाने पर किया हो। इस रिहर्सल में महारानी के निधन के बाद प्रधानमंत्री के भाषण, जुलूस इत्यादि पर विस्तृत रुप से चर्चा की गई।

डॉक्टरों ने दी सर्जरी की सलाह: आपको बता दें कि पिछले हफ्ते महारानी ने सभी जरूरी मीटिंग कैंसिल कर दी थी। सूत्रों के मुताबिक महारानी असहनीय घुटने के दर्द से गुजर रही हैं। डॉक्टरों ने उन्हें सर्जरी की सलाह दी है। हालांकि महारानी ने सर्जरी से इनकार कर दिया। महारानी का कहना है कि सर्जरी के बाद लंबे वक्त तक वो लोगों से मिल नहीं पाएंगी।

पहले भी हो चुकी हैं बीमार: साल 2013 में 86 साल की उम्र में महारानी गैस्ट्रोएंटेरिटीस की बीमारी से पीड़ित हुई थीं। हालांकि बेहतरीन डॉक्टरों की टीम ने उस वक्त महारानी का इलाज किया था और वो ठीक हो गई थीं। आपको बता दें कि एलिजाबेथ ने 1952 में ब्रिटिश शाही गद्दी संभाली थी। क्वीन एलिजाबेथ अब तक देश में 15 सरकारें और 13 प्रधानमंत्री बदलते देख चुकी हैं। ब्रिटेन की क्वीन के पास 1400 गार्ड्स, 200 घोड़े और बेशुमार दौलत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App