ताज़ा खबर
 

कभी Ford के कर्मी थे Coronavirus का टीका लाने वाले CEO, पत्नी संग बनाई दवा कंपनी, शादी के दिन भी लैब में किया काम, साइकिल से जाते हैं दफ्तर

पिछले ही साल बिल गेट्स ने इस कंपनी में 55 मिलियन डॉलर का इन्वेस्टमेंट किया था। यह इन्वेस्टमेंट एचआईवी और Tuberculosis पर काम करने के लिए किया गया था।

CORONAVIRUS, COVID -19कंपनी के सीईओ के पास अपनी कार भी नहीं है। फोटो सोर्स – PTI

कोरोना वायरस से लड़ाई में अच्छी खबर यह है कि BioNTech and Pfizer ने कहा है कि उन्होंने जो वैक्सीन तैयार किया है वो इस महामारी से लड़ने में 90 फीसदी से ज्यादा सक्षम है। BioNTech के सीईओ Ugur Sahin ने कहा है कि यह वैक्सीन कोरोना के अंत की शुरुआत साबित हो सकती है। आज हम Ugur Sahin के बारे में बात करेंगे जिनकी गिनती जर्मनी के सबसे अमीर शख्सियत के तौर पर होती है पर उनके पास एक कार भी नहीं है।

Ugur Sahin का जन्म तुर्की में हुआ था। German biotechnology कंपनी, BioNTech के सीईओ कभी फोर्ड कंपनी के कर्मचारी थे। यह कंपनी उन्होंने अपनी पत्नी के साथ साल 2008 में बनाई थी। ‘बीबीसी’ के मुताबिक Ugur Sahin चार साल की उम्र में अपनी मां के साथ जर्मनी आए थे। यहां उनके पिता रहते थे। Ugur Sahin ने विश्वविद्यालय से मेडिसीन की पढ़ाई की। आज भी वो University of Mainz में पढ़ाते हैं। साल 2019 में Ugur Sahin ने Iranian Mustafa Prize जीता था जो मुस्लिम साइंस को स्थापित करता है।

साहिन के साथ करीब 20 साल तक काम करने वाले ऑनकोलॉजी के प्रोफेसर Matthias Theobald ने मीडिया से बातचीत में कहा कि ‘वो काफी उदार इंसान हैं वो कुछ ऐसा बनाना चाहते थे जो उनके नजरिए को स्थापित करे…इसी वजह से उनके लक्ष्य काफी ऊपर थे।

साहिन की पत्नी Özlem Türeci एक डॉक्टर हैं। ‘NYT’ से बातचीत करते हुए उन्होंने कि ‘जब मैं एक लड़की थी तब ही से मैं इस प्रोफेशन के अलावा अन्य किसी प्रोफेशन के बारे में सोच भी नहीं सकी। Özlem Türeci, आज BioNTech में साहिन की पार्टनर भी हैं।

तुर्की से जर्मनी आए प्रवासी साहिन और Özlem Türeci, ने साल 2002 में शादी रचाई थी। उस वक्त साहिन, University of Mainz में काम करते थे। शादी के दिन भी साहिन ने अपना कुछ समय लैबोरेट्री में बिताया था। आज यह कपल अपनी बेटी के साथ अपने ऑफिस के पास ही एक अपार्टमेंट में रहता है। खास बात यह भी है कि साहिन आज भी बाइक से ऑफिस जाते हैं उनके पास अपनी कार नहीं है।

साल 2001 में पति-पत्नी ने Ganymed Pharmaceuticals की स्थापना की थी और मकसद था एंटी-कैंसर एंटीबॉडी तैयार करना। साल 2008 में वेस्ट जर्मनी के शहर Mainz में इस कपल ने BioNTech की स्थापना की। कोरोना संक्रमण से पहले भी यह कंपनी काफी मशहूर थी। आज इस कंपनी में करीब 1800 कर्मचारी हैं। इसके कर्मचारी बर्लिन, कैम्ब्रीज में भी हैं।

पिछले ही साल बिल गेट्स ने इस कंपनी में 55 मिलियन डॉलर का इन्वेस्टमेंट किया था। यह इन्वेस्टमेंट एचआईवी और Tuberculosis पर काम करने के लिए किया गया था। आज साहिन और उनकी पत्नी की गिनती जर्मनी के सबसे अमीर शख्सियतों में होती है।

यहां आपको बता दें कि BioNTech और Pfizer साल 2018 से ही एक साथ फ्लू वैक्सीन पर काम कर रहे हैं। मार्च के महीने में दोनों एक साथ कोरोना वैक्सीन पर काम करने के लिए राजी हुए थे। एक खास बात यह भी है कि आज साहिन और Pfizer के सीईओ Greek Albert Bourla अच्छे मित्र हैं और दोनों ही प्रवासी बैकग्राउंड से आते हैं।

BioNTech ने जनवरी के महीने से इस वैक्सीन पर काम करना शुरू किया था। उस वक्त साहिन को पता चला था कि चीन में कोरोना महामारी तेजी से फैल रहा है। इसके बाद कंपनी के रिसर्चर अपनी छुट्टियां रद्द कर इस वैक्सीन के निर्माण पर लग गए थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अमेरिका में कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए नहीं किया जाएगा मजबूर, सुनिश्चित करेंगे कि लोगों को मुफ्त मिले टीका, जो बाइडेन ने किया साफ
2 ब्रिटेन में ही 1796 में लगा था स्मॉल पॉक्स का पहला टीका, अब कोरोना का लगेगा
3 महात्मा गांधी और मार्टिन लूथर किंग जू. के विचारों को बढ़ावा देने के लिए अमेरिकी संसद में कानून पारित, सांसद बोले- इससे अहम मुद्दों पर जुड़ेंगे भारत-US
ये पढ़ा क्या?
X