ताज़ा खबर
 

यूएई ने किया मोदी की कोशिशों को सलाम, भारतीय पीएम को दिया मेडल

जायद मेडल यूएई का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है, जिसे विभिन्न देशों के राजाओं, राष्ट्राध्यक्षों और राष्ट्रपतियों को दिया जाता है। पूर्व में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रुस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन को भी इस सम्मान से नवाजा जा चुका है।

आबु धाबी के क्राउन प्रिंस ने पीएम मोदी को प्रिय दोस्त कहकर संबोधित किया है। (PTI Photo)

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नाहयान ने गुरुवार को ऐलान किया कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके देश के सर्वोच्च सम्मान ‘जायद मेडल’ से सम्मानित किया जाएगा। आबु धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी। इस ट्वीट में शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने पीएम मोदी को ‘प्रिय दोस्त’ कहकर संबोधित किया और दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने के लिए पीएम मोदी द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना की। अपने ट्वीट में शेख जायद अल नाहयान ने लिखा कि “हमारे भारत के साथ ऐतिहासिक और रणनीतिक संबंध हैं। मेरे प्रिय दोस्त, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दोनों देशों के संबंधों को बढ़ाने के लिए निभायी गई महत्वपूर्ण भूमिका को देखते हुए और उनके इन प्रयासों की प्रशंसा करते हुए यूएई के राष्ट्रपति ने उन्हें जायद मेडल से सम्मानित करने का फैसला किया है।”

बता दें कि जायद मेडल यूएई का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है, जिसे विभिन्न देशों के राजाओं, राष्ट्राध्यक्षों और राष्ट्रपतियों को दिया जाता है। पूर्व में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रुस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन को भी इस सम्मान से नवाजा जा चुका है। गौरतलब है कि पीएम मोदी बीते 3 सालों में 2 बार यूएई का दौरा कर चुके हैं। इसके अलावा आबु धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान भी साल 2017 में भारत का दौरा कर चुके हैं। उल्लेखनीय है कि यूएई में एक हिन्दू मंदिर का निर्माण भी किया जा रहा है और आगामी 20 अप्रैल को पीएम मोदी इस मंदिर का उद्घाटन करने के लिए यूएई जा सकते हैं। पीएम मोदी ने बीते साल फरवरी में अपने यूएई दौरे के दौरान स्वामीनारायण मंदिर की आधारशिला रखी थी। इस मंदिर के लिए आबु धाबी के क्राउन प्रिंस द्वारा ही जमीन दान की गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा साल 2015 में यूएई का दौरा करने के बाद से भारत और यूएई के संबंधों में प्रगाढ़ता आयी है। दोनों देशों के बीच इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए करीब 75 अरब डॉलर के निवेश और डिफेंस और स्पेस सेक्टर में साझेदारी को लेकर सहमति बनी है। शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान साल 2017 में भारतीय गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि भी शामिल हुए थे। अरब मुल्कों में भारत की बढ़ती स्वीकार्यता का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि बीते दिनों भारत को ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉपरेशन (OIC) की बैठक में भी बतौर गेस्ट ऑफ ऑनर के तौर पर आमंत्रित किया गया था। पाकिस्तान द्वारा OIC में भारत को बुलाने का विरोध किया गया था। इसके बावजूद इस्लामिक देशों के इस संगठन ने भारत को इस बैठक में बुलाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App