scorecardresearch

अमेरिकी खुफिया विभाग ने कहा- अलकायदा से जुड़ा था मैनचेस्टर हमले का हमलावर, विदेश में ली थी ट्रेनिंग

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने ब्रिटेन के मैनचेस्टर में हुए ‘भयावह’ आतंकवादी हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है।

अमेरिकी खुफिया विभाग ने कहा- अलकायदा से जुड़ा था मैनचेस्टर हमले का हमलावर, विदेश में ली थी ट्रेनिंग
मैनचेस्टर में हुए आत्मघाती हमले में 22 लोगों की मौत का जिम्मेदार माने जा रहे ब्रिटिश शख्स के बारे में अमेरिकी खुफिया अधिकारी ने बताया है कि उसके संबंध अलकायदा से थे और उसने विदेश में प्रशिक्षण लिया था।

मैनचेस्टर में हुए आत्मघाती हमले में 22 लोगों की मौत का जिम्मेदार माने जा रहे ब्रिटिश शख्स के बारे में अमेरिकी खुफिया अधिकारी ने बताया है कि उसके संबंध अलकायदा से थे और उसने विदेश में प्रशिक्षण लिया था। एनबीसी न्यूज के मुताबिक, सलमान अबेदेई (22) ने मैनचेस्टर एरेना में अमेरिकी पॉप गायिका एरियाना ग्रांडे के संगीत कार्यक्रम के दौरान सोमवार को आत्मघाती हमला किया था, जिसने ब्रिटेन में आतंकी हमले के खतरे के स्तर को बढ़ा दिया है।

अमेरिकी खुफिया अधिकारी ने बताया कि अबेदेई की पहचान उसके बैंक कार्ड के आधार पर हुई, जो घटनास्थल पर मिला था। उसका (अबेदेई) परिवार लीबिया मूल का है। एनबीसी न्यूज ने अधिकारी के हवाले से बताया कि उसकी पहचान की पुष्टि चेहरे की पहचान करने वाली तकनीक से हुई। अधिकारी ने कहा कि अबेदेई 12 महीनों में जिन देशों में गया था, लीबिया भी उनमें से एक है और उसके अलकायदा के साथ स्पष्ट रूप से संबंध रहे हैं।

खुफिया अधिकारी के अनुसार, उसके अपने परिवार के लोगों ने ब्रिटिश अधिकारियों को बताया था कि वह खतरनाक शख्स है। अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि अबेदेई का बम बड़ा और प्रभावी था, इसे बनाने में जो सामग्री लगती है, वह ब्रिटेन में मुश्किल से मिलती है, उसने 20,000 लोगों की भीड़ को निशाना बनाने के लिए जरूर किसी की सहायता ली होगी। ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने आगे भी आतंकी हमला होने की आशंका जताई है, और उन्होंने इसे देश के लिए गंभीर खतरा बताया है। वेस्टमिंस्टर हमले के ठीक दो महीने बाद मैनचेस्टर में यह हमला हुआ है।

दूसरी तरफ आत्मघाती हमला मामले में एक 23 साल के युवक को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। कहा जा रहा है कि इस युवक का भी मैनचेस्टर हमले में हाथ था। मैनचेस्टर में ही रहने वाले 53 साल के पीटर जोन्स कहते हैं कि उनका क्षेत्र काफी शांत और सुरक्षित माना जाता रहा है। जोन्स ने एएफपी को बताया, ‘जब उन्हें इस हमले के बारे में पता चला तो वो काफी सकते में आ गए और चौंक गए की हमलावर हमारे ही क्षेत्र का रहने वाला है।’

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 24-05-2017 at 04:26:38 pm
अपडेट