ताज़ा खबर
 

लंदन आतंकी हमला: 12 संदिग्‍ध अरेस्‍ट, ब्रिटिश पीएम बोलीं- बस बहुत हुआ

लंदन में आतंकी हमले: पहला हमला लंदन ब्रिज पर हुआ और दूसरा बोरो मार्केट के एक रेस्टोरेंट में।

लंदन में आतंकी हमले: हमले के बाद जगह को खाली करवता पुलिसवाला।

ब्रिटेन के लंदन में दो अलग-अलग जगह हुए आतंकवादी हमलों में सात लोगों की मौत हो गई जबकि 48 घायल हो गए। पुलिस ने तीन हमलावरों को भी मार गिराया। बीबीसी के मुताबिक, यह हमला लंदन ब्रिज पर शनिवार को रात 10 बजे हुआ। वैन सड़क पर चल रहे लोगों को कुचलती हुई चली गई। यह वैन लोगों को कुचलते हुए बोर बाजार की ओर बढ़ती चली गई, जहां वैन से तीन हमलावर उतरे और उन्होंने रेस्तरां में लोगों पर चाकू से हमले करने शुरू कर दिए। घायलों में एक ब्रिटिश परिवहन पुलिस का अधिकारी भी है। हालांकि, मौके पर पहुंची पुलिस ने आठ मिनट के भीतर ही संदिग्धों को मार गिराया। लंदन ब्रिज पर हुए आतंकवादी हमले में संलिप्तता के आरोप में 12 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। मेट्रोपॉलिटन पुलिस सहायक आयुक्त मार्क रॉवले ने बताया, “संदिग्धों ने विस्फोटक जैकेट जैसा कुछ पहना हुआ था जो जांच के बाद नकली निकले।” उन्होंने बताया कि ऐसा लग रहा है कि इन घटनाओं को तीन ही हमलावरों ने अंजाम दिया। मेट्रॉपॉलिटन पुलिस ने ट्वीट कर कहा, “लंदन ब्रिज और बोर बाजार की घटनाएं आतंकवादी घटनाएं थीं। बीबीसी ने रॉवले के हवाले से बताया, “हम इसे आतंकवादी घटना मान रहे हैं और इसकी जांच कर रहे हैं।” देश में सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी ने आम चुनाव का प्रचार की योजना रद्द कर दी है। प्रधानमंत्री थेरेसा मे सरकार की संकट समिति की आपत बैठक की अध्यक्षता करेंगी।

द गार्डियन के मुताबिक, लंदन के महापौर सादिक खान ने कहा कि मुझे यह जानकर गुस्सा आ रहा है कि ये कायर आतंकवादी लंदन के निर्दोष लोगों को जानबूझकर निशाना बना रहे हैं। विपक्षी लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कोर्बिन ने इस घटना को बर्बर बताया। सीएनएन ने व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर के हवाले से बताया कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को इस संबंध में पूर्ण जानकारी दी गई है। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, “अमेरिका, लंदन और ब्रिटेन की जो भी मदद कर सकता है, वह करेगा। हम आपके साथ हैं।” उन्होंने एक अन्य ट्वीट कर कहा, “में चौकस रहने की जरूरत है। अदालतों को हमारे अधिकार लौटाने चाहिए। हमें यात्रा प्रतिबंध को उच्च स्तर पर प्रभावी करने की जरूरत है।”

मार्च के बाद से यह ब्रिटेन में हुआ तीसरा आतंकवादी हमला है। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, इस घटना के बाद लंदन ब्रिज को बंद कर दिया गया। बसों के मार्गो में बदलाव किाय गया है और पास के साउथवार्क ब्रिज को भी बंद कर दिया गया है। हालांकि, अभी तक किसी भी आतंकवादी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। बीबीसी के रिपोर्टर हॉली जोन्स का कहना है कि वैन को एक पुरूष चला रहा था और वैन की रफ्तार 50 मील प्रतिघंटा थी। जोन्स उस समय घटनास्थल पर ही मौजूद थे।

जोन्स ने कहा, “वैन मेरे सामने से ही निकली और उसने पांच से छह लोगों को टक्कर मार दी। वैन ने दो लोगों को मेरेर सामने ही टक्कर मारी।” लंदन ब्रिज की घटना का गवाह बने एक जोड़े ने कहा, “हमने एक शख्स को देखा, वह दूसरे शख्स पर चाकू से हमला कर रहा था। उशने तीन बार उस पर चाकू से वार किया।”

गौरतलब है कि लंदन के मैनचेस्टर में ही 22 मई को आतंकवादी हमला हुआ था जिसमें 22 लोगों की मौत हो गई थी। ब्रिटेन सरकार ने मैनचेस्टर हमले के मद्देनजर आतंकी अलर्ट का स्तर बढ़ा दिया था और पुलिस की सहायता के लिए सेना की तैनाती भी कर दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App