ताज़ा खबर
 

शोलों से हमेशा दहकती रहती है यह जगह, कहलाती है धरती पर ‘नर्क का द्वार’

1971 में यानी आज से तकरीबन 47 वर्ष पहले सोवियत वैज्ञिनिकों की एक टीम तुर्कमेनिस्तान के काराकुम रेगिस्तान पहुंची और प्राकृतिक गैस की भरपूर संभावनाओं वाले इस इलाके में खुदाई चालू कर दी। रेगिस्तान को भेदते हुए वे एक गुफा बनाते जा रहे थे कि तभी जमीन का बड़ा हिस्सा भरभराकर धंस गया और जिसने करीब 70 मीटर चौड़े गड्ढे की शक्ल अख्तियार कर ली।

रेगिस्तान के सीने में 47 वर्षों से धधक रही है आग। (Image Source: facebook/The Earth)

1971 में यानी आज से तकरीबन 47 वर्ष पहले सोवियत वैज्ञिनिकों की एक टीम तुर्कमेनिस्तान के काराकुम रेगिस्तान पहुंची और प्राकृतिक गैस की भरपूर संभावनाओं वाले इस इलाके में खुदाई चालू कर दी। रेगिस्तान को भेदते हुए वे एक गुफा बनाते जा रहे थे कि तभी जमीन का बड़ा हिस्सा भरभराकर धंस गया और जिसने करीब 70 मीटर चौड़े गड्ढे की शक्ल अख्तियार कर ली। गड्ढे से गैस बह चली। जहरीली गैस कहीं आसपास के इलाके में मौत का सबब न बन जाए इसलिए वैज्ञानिकों ने उसमें आग लगा दी। वैज्ञिनिकों को लगा था कि प्राकृतिक ईधन खत्म होते ही आग शांत हो जाएगी लेकिन उसकी लपटें आज तक धधक रही हैं। रेगिस्तान के सीने पर वर्षों से धधकती आग नयनाभिराम दृश्य बनाती है जिसे करीब से अनुभव करने के लिए दूर-दराज से पर्यटक भी पहुंचते हैं। इसके पास 400-500 की आबादी वाला एक छोटा सा गांव है, देरवेजे। देरवेजे और आसपास के लोग आग के इस विशालकाय गड्ढे को नरक का द्वार या पाताल का द्वार बुलाते हैं।

ठंड में आग का यह गड्ढा इलाके में गुनगुनी गर्माहट बनाए रखता है जिससे लोगों और उनके पालतू जानवरों के लिए यह राहत का काम करता है। आग की लपटों से जगमग होती स्वर्णिम रौशनी से रात में इलाके में भरपूर उजाला फैल जाता है, इतना कि मीलों की दूरी से उसे देखा और महसूस किया जा सकता है। 2013 में नेशनल जियोग्राफिक के एक शोधार्थी जॉर्ज कोरोउनिस ने नरक के इस द्वार में प्रवेश किया था, उन्होंने पाया कि चट्टानों, कंदराओं, पर्वतों, नदियों और समंदरों के किनारे पाया जाने वाला माइक्रोबाइल जीवन गर्म मीथेन गैस वाले वातावरण में भी सांस ले रहा था।

आग के गड्ढे में मिले बैक्टीरिया को लेकर उन्होंने कहा था कि जीवन की खोज करने वालों के लिए यह एक उम्मीद देता है कि ब्रह्मांड में कहीं भी किसी भी परिस्थिति में जिंदगी सांस ले सकती है। इंटरनेट से प्राप्त जानकारी के अनुसार यह गैसक्षेत्र तुर्कमेनिस्तान की राजधानी अश्गाबात से लगभग 260 किलोमीटर दूर है और दुनिया के सबसे बड़े भूमिगत गैस भंडारों में से एक है। सैलानियों को आगाह किया जाता है कि वे अपनी रिस्क पर इसके करीब जाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App