ताज़ा खबर
 

तुर्की में आत्मघाती हमला, 11 पुलिसकर्मियों की मौत, पीकेके पर लगाया आरोप

1984 में पहली बार पीकेके ने हथियार उठाए थे। तब से 40,000 से ज्यादा लोग इसमें मारे जा चुके हैं। तुर्की के कुर्द अल्पसंख्यक अपने लिए एक अलग देश की मांग कर रहे हैं।

Author इस्तांबुल | August 26, 2016 20:17 pm
तुर्की के दक्षिणपूर्वी हिस्से में एक पुलिस भवन के बाहर हुए एक कार बम विस्फोट के बाद उठता धुआं। (DHA via AP/File)

तुर्की के सिजरे शहर में संदिग्ध कुर्द विद्रोहियों के आत्मघाती हमले में शुक्रवार (26 अगस्त) को 11 तुर्क पुलिस अधिकारी घायल हो गए, जबकि 78 लोग घायल हो गए। शुक्रवार तड़के हुए इस विस्फोट में सीरिया की उत्तरी सीमा से लगे सिजरे शहर में स्थित पुलिस मुख्यालय लगभग तबाह हो गया है। प्रांतीय गवर्नर के कार्यालय से जारी बयान के अनुसार, ‘पीकेके आतंकवादी समूह ने आज (शुक्रवार, 26 अगस्त) सुबह पौने सात बजे दंगा-निरोधी पुलिस के भवन पर विस्फोटकों से लगे वाहन से आत्मघाती हमला किया।’

बयान के अनुसार, 11 पुलिस कर्मी मारे गए हैं और तीन नागरिकों सहित 78 लोग घायल हो गए। स्वास्थ्य मंत्री रेसेप अकदाग ने बताया कि चार लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। तुर्की सेना द्वारा सीरिया के भीतर कुर्द मिलिशिया पर बमबारी किए जाने के कुछ देर बाद यह हमला हुआ है। तुर्की का कहना है कि उसका सीरिया में यह तीन दिन पुराना अभियान, युद्ध से जर्जर पड़ोसी देश में उसका सबसे बड़ा अभियान है। इसमें इस्लामिक स्टेट के जिहादियों और क्षेत्र में आईएस के खिलाफ लड़ रहे कुर्दिश पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स (वाईपीजी) मिलिशिया दोनों को निशाना बनाया जा रहा है।

तुर्की के गैरकानूनी संगठन पीकेके से जुड़े वाईपीजी को अंकारा ने आतंकवादी समूह करार दिया है, जो उसकी सीमा पर सीरिया में स्वायत कुर्द क्षेत्र बनाना चाहता है। सिजरे में हुए विस्फोट में पुलिस मुख्यालय की चार मंजिला इमारत लगभग पूरी तरह नष्ट हो गई है और पूरा आसमान काले धुएं के गुबार से भर गया है। आसपास के भवनों को भी क्षति पहुंची है। सरकारी समाचार एजेंसी अनादोलु की खबरों के अनुसार, विस्फोट भवन से करीब 50 मीटर दूर नियंत्रण पोस्ट में हुआ। कुर्द बहुल शहर सिजरे पिछले वर्ष संघर्षविराम असफल होने के बाद से पीकेके और सरकारी बलों के बीच जारी ताजा हिंसा का दंश झेल रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App