तुर्की ने मार गिराया रूसी लड़ाकू विमान

नाटो के सदस्य तुर्की ने मंगलवार को सीरियाई सीमा के निकट रूस के एक युद्धक विमान को मार गिराया।

नाटो के सदस्य तुर्की ने मंगलवार को सीरियाई सीमा के निकट रूस के एक युद्धक विमान को मार गिराया। इस घटना के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने तुर्की को चेतावनी दी कि इस घटना का द्विपक्षीय संबंधों पर गंभीर प्रभाव होगा। तुर्की की सेना ने कहा कि विमान ने पांच मिनट में 10 बार तुर्की की हवाई सीमा का उल्लंघन किया। इसके बाद दो एफ-16 विमानों ने उसे मार गिराया।

इस घटना के बाद सीरिया संघर्ष में दो विपरीत धु्रवों पर नजर आ रहे इन दोनों देशों के बीच बड़ा कूटनीतिक संकट भी पैदा हो गया है। रूस ने इस बात पर जोर दिया है कि विमान सीरिया की हवाई सीमा में था। उसने विमान को मार गिराने की इस घटना की निंदा की है। रूसी शहर सोची में जॉर्डन के शाह अब्दुल्ला द्वितीय के साथ एक बैठक को संबोधित करने के दौरान तनाव में नजर आ रहे पुतिन ने विमान गिराए जाने की घटना को आतंकवादियों के सहयोगियों द्वारा पीठ में छुरा घोंपने जैसा करार दिया। राष्ट्रपति ने कहा, ‘आज जो भी हुआ उसे मैं और कुछ नहीं कह सकता।’

पुतिन ने कहा, ‘आज की दुखद घटना का रूस-तुर्की संबंधों पर गंभीर प्रभाव होगा। निश्चित तौर पर हम आज हुई घटना के हर पहलू का सावधानीपूर्वक विश्लेषण करेंगे।’  तुर्की की मीडिया ने कहा कि दो पायलट पैराशूट के सहारे विमान से बाहर निकले। इनमें से एक को सीरिया के विद्रोही बलों ने पकड़ लिया। दूसरी तरफ सीरियाई विपक्ष के सूत्रों ने कहा कि एक पायलट की मौत हो गई जबकि दूसरा लापता है।

सीरियाई आकाश में रूस, अमेरिका, फ्रांस, तुर्की और कुछ खाड़ी देशों के विमानों की मौजूदगी से ऐसी आशंका लंबे समय से थी कि कोई भी घटना तुरंत बड़ा कूटनीतिक और सैन्य संकट पैदा कर सकती है।
तुर्की के राष्ट्रपति कार्यालय ने कहा, ‘एक रूसी विमान सु-24 को नियमों के अनुसार गिराया गया क्योंकि इसने चेतावनी के बावजूद तुर्की की हवाई सीमा का उल्लंघन किया था।’

सीरियन आॅब्जर्वेटरी फार ह्यूमन राइट्स के प्रमुख रमी अब्दुर्रहमान ने कहा कि जंगी विमान तटीय लताकिया प्रांत के तुर्कमान पर्वतीय क्षेत्र में गिर गया। तुर्की ने रूसी युद्धक विमान के सीरियाई सीमा के ऊपर हवाई क्षेत्र का उल्लंघन करने के मामले में विरोध दर्ज कराने के लिए अंकारा में रूस के चार्ज डिअफेयर्स को मंगलवार को तलब किया।

यह पूरा प्रकरण रूसी विदेश मंत्री सर्गई लावारोव की तुर्की यात्रा की पूर्व संध्या पर हुआ है। रूस ने इस बात की पुष्टि की है कि उसके एक विमान को 6,000 मीटर की ऊंचाई से मार गिराया गया, लेकिन ऐसा लगता है कि इसे जमीन से मारकर गिराया गया है।

उधर, अमेरिका ने कहा कि रूसी विमान को मार गिराए जाने की इस घटना से उसका कोई संबंध नहीं है। अमेरिकी रक्षा विभाग के एक अधिकारी ने कहा, ‘हमारे तुर्की के साझेदारों ने सूचित किया है कि उनके सैन्य विमान ने मंगलवार को उस वक्त रूसी विमान को मार गिराया जब उसने तुर्की के हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया था।’ उन्होंने कहा, ‘फिलहाल हम इसकी पुष्टि कर सकते हैं कि अमेरिकी सुरक्षा बल इस घटना में शामिल नहीं थे।’

पढें अंतरराष्ट्रीय समाचार (International News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट