ताज़ा खबर
 

हिलेरी क्लिंटन के कारण अमेरिका में गरीबी आई: डोनाल्ड ट्रंप

डोनाल्ड ट्रम्प ने अपनी प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन के बतौर विदेश मंत्री कार्यकाल को ‘‘ऐतिहासिक नाकामी’’ करार देते हुए कहा कि उनकी विदेश नीति के कारण ‘अमेरिका में गरीबी बढ़ी और अन्य देशों में तबाही आई ’।
Author वाशिंगटन | September 16, 2016 03:17 am

डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन के बतौर विदेश मंत्री कार्यकाल को ‘ऐतिहासिक नाकामी’ करार देते हुए कहा कि उनकी विदेश नीति के कारण ‘अमेरिका में गरीबी बढ़ी और अन्य देशों में तबाही आई’ है। उन्होंने स्पष्ट किया कि अगर वह अमेरिका के राष्ट्रपति चुने जाते हैं तो वह इन नीतियों को बदल देंगे और ‘सभी अमेरिकियों’ के भविष्य का निर्माण करेंगे। रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हिलेरी की आलोचना में असंयमित भाषा का इस्तेमाल करते रहे हैं। उन्होंने हिलेरी पर ‘वॉल स्ट्रीट में अपने दोस्तों के जरिए लाखों डॉलर की रकम जुटाने’ का आरोप लगाते हुए कहा कि इसके कारण राष्ट्रीय ऋण दुगुना हुआ और 2009 से 1.4 करोड़ श्रमिकों का काम छूटा।

ट्रंप ने कहा, ‘हिलेरी क्लिंटन की नीतियों के कारण अन्य देशों का केवल नुकसान हुआ है और देश में गरीबी बढ़ी है।’ उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा तब होता है जब कोई जनसेवक अपनी पद प्रतिष्ठा को बेच देता है। 70 वर्षीय रीयल इस्टेट अरबपति ने बुधवार को ओहायो में चुनावी रैली में कहा कि हर पांच अमेरिकी परिवारों में से एक में किसी भी सदस्य के पास काम नहीं है।ट्रंप ने कहा, ‘विदेश मंत्री के तौर पर हिलेरी क्लिंटन का रेकॉर्ड ऐतिहासिक नाकामियों का रहा है। पश्चिम एशिया – इराक, सीरिया, लीबिया में उनकी नीतियों को ही देखिए और रूस, चीन और उत्तर कोरिया में उनकी नाकामियों का तो उल्लेख ही मत करिए। एक के बाद एक उन्होंने विफलता ही पाई, जबकि इन सबसे इतर उन्होंने वॉल स्ट्रीट में अपने दोस्तों के जरिए लाखों डालर की रकम जुटाई।’

ट्रंप ने कहा, ‘कारोबार, अर्थव्यवस्था, आव्रजन पर हिलेरी क्लिंटन की आर्थिक नीतियों ने अमेरिका के अंदरूनी शहरों में नुकसान पहुंचाया है। उनकी नीतियां ही समस्या हैं, हम लोग समाधान प्रस्तुत कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘मैं इन नीतियों को बदलने और सभी अमेरिकी नागरिकों के समृद्धिशाली भविष्य के लिए काम कर रहा हूं। मेरा आर्थिक एजंडा महज तीन शब्दों में निहित है – नौकरी, नौकरी, नौकरी। जो नई ‘अमेरिका-फर्स्ट’ कारोबार नीति से शुरू होगा।’

उधर ट्रंप ने अमेरिका के अहम संघर्ष वाले प्रांतों में बढ़त बना रहे हैं, राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार ने गुरुवार को कहा कि अमेरिकी विफल राजनीतिक प्रतिष्ठान को छोड़ने को तैयार हैं जो मेहनती लोगों के प्रति असम्मान रखता है। नवंबर के आम चुनाव में 60 दिन से भी कम समय रह जाने के बीच सीएनएन-ओआरसी सर्वेक्षण में कहा गया है कि ट्रंप दो अहम संघर्ष वाले प्रांतों ओहायो और फ्लोरिडा में अपनी प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन से आगे चल रहे हैं। सर्वेक्षण के अनुसार ओहायो में संभावित मतदाताओं के बीच ट्रंप की लोकप्रियता 46 फीसद है जबकि हिलेरी की 41 फीसद। फ्लोरिडा में संभावित मतदाताओं में ट्रंप 44 फीसद के बीच लोकप्रिय हैं जबकि क्लिंटन 44 फीसद की पसंद हैं। राष्ट्रपति पद की डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हाल तक इन दोनों प्रांतों में आगे चल रही थीं। राजनीतिक पंडितों का कहना है कि ये दोनों प्रांत दोनों उम्मीदवारों में से किसी के भी पक्ष में राष्ट्रपति चुनाव का पलड़ा झुका सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.