ताज़ा खबर
 

चीन: इस शहर में 19 मंजिला बिल्डिंग के बीच से गुजरती है ट्रेन, ऊपर-नीचे आराम से रहते हैं लोग

यही नहीं रेलवे ट्रैक के कारण लोगों को दिक्कत न हो इसके लिए भी खास इंतजाम किए गए हैं। ट्रेन के शोर को कम करने के लिए स्पेशल उपकरण लगाए गए हैं।

चीन में बिल्डिंग के बीच से गुजरती हुई ट्रेन। (Photo Source: Twitter)

चीन के चोंगक्विंग शहर में 19 मंजिला रिहायशी बिल्डिंग के बीच से गुजरता हुआ लाइट रेलवे ट्रैक बनाया गया है। इस रेलवे ट्रैक को देखकर हर कोई हैरान है। शहर में 31 हजार स्क्वॉयर मिल में 49 मिलियन (करीब 5 करोड़) आबादी रहती है। जगह की कमी की समस्या के कारण शहरी नियोजकों ने इस क्रिएटिव तरीके को अपनाया है। इसके तहत छठवें से आठवें माले के घरों की जगह पर स्पेशल रेलवे स्टेशन बनाया गया है। इस बिल्डिंग में बाकी के फ्लोर पर लोग रहते हैं और इन्हीं के बीच से ट्रेन गुजरती है। प्लानर्स के इस तरीके ने ट्रेन ट्रैक बनाने के लिए पूरी बिल्डिंग को गिराने से भी बचा लिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक सिटी ट्रांसपोर्ट के प्रवक्ता ने कहा कि हमारा शहर बहुत ही घनी आबादी वाला है। ऐसे में सड़क पर कमरा और रेलवे लाइन्स बनाना निश्चित तौर पर चुनौती है। दरअसल शहर की भौगोलिक परिस्थिति और जगह की कमी को देखते हुए रेलवे ट्रैक को बिल्डिंग के बीच से गुजारा गया है।

यही नहीं रेलवे ट्रैक के कारण लोगों को दिक्कत न हो इसके लिए भी खास इंतजाम किए गए हैं। ट्रेन के शोर को कम करने के लिए स्पेशल उपकरण लगाए गए हैं। इस बिल्डिंग में रहने वाले लोगों का कहना है कि उनको ट्रेन की आवाज उतना ही परेशान करती है, जितना एक डिशवॉशर से होने वाले शोर के कारण होता है।

चोंगक्विंग की पोर्ट सिटी चीन के चार नगर निगमों में से एक है और यंगतजे नदी के किनारे पर बसी हुई है। यही नहीं यह घनी जनसंख्या वाला क्षेत्र है। इसे माउंटेन सिटी के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि यह जंगलों और पहाड़ों से घिरा हुआ है। चोंगक्विंग रेल ट्रांजिट एक पब्लिक मेट्रो सिस्टम है। जिसका संचालन चोंगक्विंग रेल ट्रांजिट लिमिटेड द्वारा किया जाता है। कंपनी ने अपना संचालन 6 नवंबर 2004 को शुरू किया था। 31 जुलाई 2014 को चोंगक्विंग के युजहोंग जिले के लिज़ीबा से लाइन 2 मोनोरेल बिल्डिंग से होकर गुजरी थी। उस वक्त सोशल मीडिया पर इसे लेकर लोगों ने शिकायत करने के साथ मजाक भी उड़ाया था।

https://www.youtube.com/watch?v=fFzqD_eb0Zk

Next Stories
1 अमेरिका ने भारत को बताया, H1-B वीजा व्यवस्था में कोई बड़ा बदलाव नहीं
2 घृणा अपराध के विरोध में भारतीय-अमेरिकियों ने व्हाइट हाउस के सामने निकाली रैली, डोनाल्ड ट्रंप से की हस्तक्षेप की मांग
3 चीन में मिला 300 साल पुराना खजाना, सोना-चांदी सहित की हजारों सामग्रियां बरामद
ये पढ़ा क्या?
X