ताज़ा खबर
 

सिख-अमेरिकी को बुरी तरह पीटने वालों को तीन साल की कैद

खालसा एक सिख-अमेरिकी हैं और आईटी विशेषज्ञ हैं। पिछले साल सितंबर में कैलिफोर्निया में रिचमंड बे इलाके में उनके साथ निर्मम तरीके से मारपीट की गई थी।

Author May 19, 2017 8:35 PM
खालसा एक सिख-अमेरिकी हैं और आईटी विशेषज्ञ हैं। (Image Source: Sikh Coalition/ Twitter)

अमेरिका की एक अदालत ने दो लोगों को पिछले साल एक सिख-अमेरिकी को निर्मम तरीके से पीटने के लिए घृणा अपराध का दोषी ठहराया और तीन साल कैद की सजा सुनाई। पिछले साल हुई मारपीट की यह घटना कैलिफोर्निया की है। चेज लिटिल और कोल्टन लेबलैंक को मारपीट और घृणा अपराध के आरोपों में दोषी पाया गया। उन्हें कैलिफोर्निया राज्य की जेल में तीन साल कैद की सजा सुनाई गई। इन दोनों ने मान सिंह खालसा नामक व्यक्ति पर हमला बोला था।

खालसा एक सिख-अमेरिकी हैं और आईटी विशेषज्ञ हैं। पिछले साल सितंबर में कैलिफोर्निया में रिचमंड बे इलाके में उनके साथ निर्मम तरीके से मारपीट की गई थी। हमलावरों ने खालसा को रास्ते में रोक लिया था। इसके बाद हमलावर अपने ट्रक से निकलकर आए और उनके चेहरे पर बार-बार वार किया। हमलावरों ने उनकी पगड़ी खोल दी और उनके बढ़ाए हुए केश चाकू से काट डाले थे।

कल अदालत में अपने बयान के दौरान हमलावरों की पहचान कर लेने वाले खालसा ने कहा, ‘‘इस हमले को घृणा अपराध, मेरे और मेरे पूरे समुदाय के सम्मान को पहुंचाई गई क्षति के रूप में मान्यता दिया जाना इस प्रक्रिया की दिशा में पहला कदम है।’’

सिखों के अधिकारों के लिए काम करने वाले समूह सिख कोएलिशन की ओर से जारी एक बयान के अनुसार उन्होंने कहा, ‘‘मैं अब भी आपको अपना भाई मानता हूं और उम्मीद करता हूं कि आप मेरे और मेरे समुदाय के बारे में जानेंगे। एक दिन आप भी मुझे अपना भाई मानेंगे।’’

गौरतलब है कि अमेरिका में नस्लीय हमले लगातार हो रहे हैं। इससे पहले 5 मार्च को भारतीय मूल के 39 वर्षीय सिख नागरिक पर हमला वाशिंगटन के केंट शहर में उनके घर के बाहर हुआ था। हमलावर ने कथित तौर पर यह कहते हुए गोली चला दी थी कि मेरे देश से चले जाओ। गोली युवक के बांह में लगी थी। किंग5 टीवी के मुताबिक, घटना की जांच नस्लीय अपराध के तौर पर की जा रही है। पुलिस ने संघीय जांच ब्यूरो (एफबीआई) से भी मदद मांगी है।

ठीक ऐसी ही घटना 4 मार्च को नस्लीय हमले में दक्षिण कैरोलिना के लैंकेस्टर में भारतीय मूल के कारोबारी हरनीश पटेल की हत्या कर दी गई थी, जबकि 22 फरवरी को कंसास के ओलेथ में हुए ‘नस्लीय हमले’ में भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की मौत हो गई और एक अन्य भारतीय नागरिक आलोक मदासानी घायल हो गए थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भारत पर पाकिस्तान का गंभीर आरोप, कहा – तैयार करने वाला है 2600 परमाणु हथियार
2 यूएन ने पेश किए चौंकाने वाले आंकड़े, कहा – दो करोड़ लोग हैं अकाल की कगार पर
3 14 साल के भारतीय मूल के लड़के ने जीती नेशनल जियोग्राफिक बी प्रतियोगिता, मिलेंगे करीब 32 लाख रुपए
यह पढ़ा क्या?
X