ताज़ा खबर
 

NSG में बाधा बनने वाले चीन की भारत को सलाह- इसका सदस्‍य बनना है तो कुछ अलग सोचो

न्‍यूक्लियर सप्‍लायर्स ग्रुप(एनएसजी) में भारत को जगह देने का विरोध करने वाले चीन ने अपने कदम के बचाव में कहा कि वह नियमों का पालन कर रहा था।

न्‍यूक्लियर सप्‍लायर्स ग्रुप(एनएसजी) में भारत को जगह देने का विरोध करने वाले चीन ने अपने कदम के बचाव में कहा कि वह नियमों का पालन कर रहा था।

न्‍यूक्लियर सप्‍लायर्स ग्रुप(एनएसजी) में भारत को जगह देने का विरोध करने वाले चीन ने अपने कदम के बचाव में कहा कि वह नियमों का पालन कर रहा था। उसने साथ ही कहा कि एनएसजी में प्रवेश के लिए भारत को अलग तरह का विचार रखना होगा जिससे किे सभी देश सहमत हो सके। बता दें कि भारत ने परमाणु अप्रसार संधि पर हस्‍ताक्षर नहीं किए हैं। चीन का कहना है कि इसी वजह से उसने नियम 48 का पालन किया।

जनता को पसंद आई मोदी सरकार की विदेश नीति और रेलवे का काम, जेटली-ईरानी फिसड्डी

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता हुआ चुनयिंग ने कहा, ”चीन दो बातें चाहता है, हम एनएसजी के नियमों से बंधे हुए हैं क्‍योंकि इसके नियम किसी देश के खिलाफ नहीं है। हमें कुछ अलग हटकर सोचना होगा ताकि सब सहमत हो सके।” हुआ ने दावा किया कि सिओल में एनएसजी मीटिंग के दौरान चीन ने दो और देशों के साथ मिलकर एनपीटी साइन न करने वाले देशों को भी प्रवेश देने के लिए काम किया। उन्‍होंने कहा, ”इस सेशन की यह बड़ी उपलब्धि है। चीन ने सकारात्‍मक और निर्माणात्‍मक रूप से काम कर रहा है।”

एनएसजी की दो टूक- भारत के मामले में नहीं बरती जाएगी कोई रियायत, पूरी करनी होगी शर्त

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App