ताज़ा खबर
 

रहने लायक टॉप 10 शहरों में भारत का एक भी नहीं, ये रही ल‍िस्‍ट

यह रैंकिंग स्थिरता, स्वास्थ्य, संस्कृति और पर्यावरण, शिक्षा और बुनियादी ढांचे को लेकर की गई है।

मेलबर्न शहर अपने ट्रेंडी कैफे, बार और लेनवेज के लिए जाना जाता है।

दुनिया खूबसूरत है। यहां तरह तरह की जगह हैं। किसी अच्छी जगह की फोटो देखकर एक बार को तो मन करने लगता है कि हम भी वहीं जाकर रहने लगें। आज हम आपको दुनिया की कुछ ऐसी ही खास खूबसूरती के बारे में बताने जा रहे हैं। आज हम आपको दुनिया के दस ऐसे शहरों के नाम बताने जा रहे हैं जो रहने के लिए सबसे अच्छे हैं, लेकिन इन दस शहरों में भारत का एक भी शहर नहीं है। सबसे पहले नंबर पर आता है मेलबर्न। मेलबर्न ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया राज्य की राजधानी है। यह शहर अपने ट्रेंडी कैफे, बार और लेनवेज के लिए जाना जाता है। यह इकॉनोमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट्स 2017 की रैंकिंग में टॉप पर है। यह रैंकिंग स्थिरता, स्वास्थ्य, संस्कृति और पर्यावरण, शिक्षा और बुनियादी ढांचे को लेकर की गई है।

इस रैंकिग में मेलबर्न को 100 में से 97.5 नंबर मिले हैं। दूसरे नंबर पर ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना है। इसे 97.4 नंबर मिले हैं। तीसरे पर कनाडा का वैंकूवर शहर है। इसे 97.3 नंबर मिले हैं। 97.2 नंबरों के साथ टोरोंटो चौथे नंबर पर है। पांचवें नंबर पर कैलगिरी और एडिलेड हैं। इन्हें 96.6 नंबर मिले हैं। पर्थ 95.9 नंबरों के साथ सातवें नंबर पर है। ऑकलैंड 95.7 नंबरों के साथ आठवें स्थान पर है। 95.6 नंबरों के साथ  हेलसिंकी नौंवे नंबर पर है। हैम्बर्ग 95 नंबरों के साथ टॉप टेन में सबसे नीचे है।

ये हैं दुनिया के सबसे अच्छे रहने लायक शहर। (Photo: telegraph )

इसके अलावा हम दस ऐसे शहरों के बारे में बताते हैं जो रहने के हिसाब से खराब हैं। इनमें दमिश्क को रहने के मामले में 100 में से 30.2 नबर मिले हैं। यह 140 वें नंबर पर है। लागोस 36 नंबरों के साथ 139 वें नंबर पर है। त्रिपोली 36.6 नंबरों के साथ 138 वें नंबर पर है। ढाका को 38.7 नंबर मिले हैं। यह इस रैंकिंग में 137 वें नंबर पर है। पोर्ट मोरेस्बी 39.6 नंबरों के साथ 136 वें नंबर पर है। अल्जीयर्स और कराची 40.9 नंबरो के साथ 134 वें नंबर पर हैं। हरारे 42.6 नंबरों के साथ 133 वें नंबर पर है। डौला को 44 नंबर मिले हैं। यह 132 वें नंबर पर है। कीव 47.7 नंबरों के साथ 131वें नंबर पर है।

ये हैं दुनिया के वह खराब शहर जो रहने के लिए ठीक नहीं हैं। (Photo: telegraph )

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App