ताज़ा खबर
 

जिसके पास था पासवर्ड उसकी हो गई मौत, अटके लोगों के 1000 करोड़ रुपए

रॉबर्टसन ने कहा कि वह कॉटेन के जीवित रहते हुए उनके कारोबार में शामिल नहीं थीं और उन्हें पासवर्ड या रिकवरी की जानकारी नहीं। रॉबर्टसन ने कहा कि उसने एक विशेषज्ञ से सलाह ली है।

इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

कनाडाई डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म क्वाड्रिगा के यूजर्स के खातों में जमा करीब 137.21 मिलियन अमेरिकी डॉलर (करीब 1,000 करोड़ रुपए) फंस गए हैं। दरअसल इस कंपनी के फाउंडर कॉटेन की दिसंबर में अचानक मौत हो गई। इनको एक्सेस करने का पासवर्ड केवल संस्थापक के ही पास था। क्वाड्रिगा सीएक्स के फेसबुक पेज के मुताबिक 14 जनवरी को संस्थापक की मौत की घोषणा की गई। यह प्लेटफॉर्म बिटकॉइन, लिटॉइन और एथेरियम की ट्रेडिंग का काम करता है। प्लेटफॉर्म ने पिछले सप्ताह नोवा स्कोटिया सुप्रीम कोर्ट में लेनदार सुरक्षा के लिए फाइल किया था। कंपनी की ओर से कॉटेन की विधवा जेनिफर रॉबर्टसन के हलफनामे के अनुसार, क्वाड्रिगा के 363,000 रजिस्टर्ड यूजर्स हैं और कुल C$250 मिलियन से 115,000 यूजर्स प्रभावित हैं। रॉबर्टसन ने हलफनामे में कहा कि कॉटन के मुख्य कंप्यूटर में क्रिप्टोकरेंसी का एक “कोल्ड वॉलेट” था, जिसे केवल फिजिकली एक्सेस किया जा सकता है, ऑनलाइन नहीं है। उसकी मौत के बाद C$180 मिलियन कॉइन कोल्ड स्टोरेज में हैं।

रॉबर्टसन ने कहा कि वह कॉटेन के जीवित रहते हुए उनके कारोबार में शामिल नहीं थीं और उन्हें पासवर्ड या रिकवरी की जानकारी नहीं। बार-बार और खोजे जाने के बावजूद, मैं उन्हें कहीं भी खोजने में सक्षम नहीं हुई। रॉबर्टसन ने कहा कि उसने एक विशेषज्ञ से सलाह ली है, जिसे कॉटेन के अन्य कंप्यूटर और सेल फोन से कुछ कॉइन और कुछ जानकारी को पाने में सीमित सफलता मिली है, लेकिन ज्यादातर उनके मेन कंप्यूटर पर अछूता है।

प्रतिद्वंद्वी प्लेटफॉर्म Bitbuy.ca के उपाध्यक्ष डीन स्कुरका ने कनाडाई ब्रॉडकास्टिंग कॉर्प के साथ एक साक्षात्कार में कहा कि क्वाड्रिगा की परेशानियां क्रिप्टोकरेंसी की अनूठी चुनौतियों को उजागर करती हैं।  स्कुरका ने कहा, “यह वास्तव में सरकार को कार्रवाई करने और क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों को विनियमित करने की जरूरत को उजागर करता है।” रॉबर्टसन ने अपने हलफनामे में कहा कि उन्हें ऑनलाइन धमकी और “भद्दी टिप्पणियां” मिली हैं, जिसमें कॉटेन की मौत की प्रकृति के बारे में सवाल शामिल हैं, और क्या वह वास्तव में मर चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App