ताज़ा खबर
 

बांग्लादेश में 26/11 की तरह आतंकी हमला, आतंकियों ने पांच मंजिला इमारत को कब्जे में लेकर लोगों को बंधक बनाया, 4 दिनों से चल रहा है ऑपरेशन ‘ट्वाईलाईट’

सुरक्षा एजेंसियों ने डेलीस्टार को बताया कि आतंकी आज सुबह से रह रहकर फायरिंग कर रहे हैं। जिसे देखते हुए प्रशासन ने इलाके में बिजली काट दी है।

अभी तक इस हमले में 6 लोगों की मौत और करीब 50 से ज्यादा लोग घायल हो चुके हैं।(photo source -AP)

पड़ोसी बांग्लादेश बीते चार दिनों से सिलहट स्थित पांच मंजिला इमारत पर कब्जा जमाए आतंकियों को खत्म करने में अभी तक कामयाब नहीं हो पाया है। आज सुबह फिर आतंकियों ने इमारत से फायरिंग की। ज्वाइंट टास्क फोर्स भारी मशक्कत के बाद भी आतंकियों को खत्म नहीं कर पाई है। दूसरी तरफ सुरक्षा एजेंसियों ने आतंकी खतरे को देखते हुए पांच किलो मीटर के हिस्से को सील कर दिया है। आतंकियों को खत्म करने के लिए ऑपरेशन ‘ट्वाईलाईट’ चलाया है। बांग्लादेश के डेलीस्टार ने बताया है कि अबतक इमारत में फंसे 50 लोगों से ज्यादा लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया है जबकि अभी भी काफी लोग इमारत में फंसे हैं। जिन्हें बचाने की पूरी कोशिश की जा रही है।

सुरक्षा एजेंसियों ने डेलीस्टार को बताया कि आतंकी आज सुबह से रह रहकर फायरिंग कर रहे हैं। जिसे देखते हुए प्रशासन ने इलाके में बिजली काट दी है और आसपास की सभी दुकानों को अगले आदेश तक के लिए बंद करने को कहा है। हालांकि, इससे पूरे क्षेत्र में लोगों को खाने, पीने की समस्या आ रही है।

इससे पहले बीते रविवार को आतंकियों ने दो धमाके किए। इन बम धमाकों में 6 लोगों की मौत हो गई जबकि करीब 50 लोग बुरी तरह से घायल हो गए। ये धमाके आतंकियों द्वारा कब्जा जमाए इमारत से 500 मीटर की दूरी पर किए गए। आतंकियों ने पहला धमाका रविवार सुबह भीड़ वाले इलाकों को निशाना बनाते हुए करीब सात बजे किया। हालांकि सुरक्षा एजेंसियां अभी तक ये पता लगाने में नाकाम रहीं है कि इमारत में छिपे आंतकियों की संख्या कितनी है या उनके पास किस तरह के हथियार हैं।

सिलहट के डिप्टी कमिश्नर बासुदेव बानिक ने न्यूज एजेंसी एएफपी को बताया कि आतंकी हमले में अबतक 6 लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में दो पुलिसकर्मी शामिल है। उन्होंने कहा कि हमें जानकारी मिली है कि हमलावर आतंकी संगठन आईएसआईएस से खासे प्रभावित हैं। उन्होंने कहा कि करीब 50 लोग भी घायल हुए हैं जिनमें पत्रकार, पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App