scorecardresearch

अफगानिस्तान में भारतीय राजनयिकों के घर पहुंचे थे तालिबानी, दस्तावेज छीने फिर उनके वाहन भी ले गए

काबुल से आने वाली रिपोर्टों के मुताबिक ऐसा माना जा रहा है कि हक्कानी नेटवर्क के लगभग 6,000 कैडर ने आतंकवादी समूह के प्रमुख और तालिबान के उप नेता सिराजुद्दीन हक्कानी के भाई अनस हक्कानी के नेतृत्व में काबुल पर नियंत्रण कर लिया है।

Taliban, Hindu - Muslim
अफगानिस्तान में 20 साल बाद फिर से तालिबान का कब्जा हो गया है। (Photo Source – Reuters)

तालिबान के कैडर कंधार और हेरात में बंद पड़े भारतीय वाणिज्य दूतावास भी पहुंचे थे। उन्होंने कागजों के लिए कंधार में अलमारी की तलाशी ली और दोनों दूतावासों से पार्क किए गए वाहनों को ले गए। यहां तक ​​कि तालिबान के कैडर काबुल में घर-घर जाकर तलाशी ले रहे हैं जिससे कि एनडीएस खुफिया एजेंसी के लिए काम करने वाले अफगानों की पहचान की जा सके। फिलहाल जलालाबाद में भारतीय वाणिज्य दूतावास और काबुल में मिशन पर रिपोर्ट उपलब्ध नहीं हैं।

काबुल से आने वाली रिपोर्टों के मुताबिक ऐसा माना जा रहा है कि हक्कानी नेटवर्क के लगभग 6,000 कैडर ने आतंकवादी समूह के प्रमुख और तालिबान के उप नेता सिराजुद्दीन हक्कानी के भाई अनस हक्कानी के नेतृत्व में काबुल पर नियंत्रण कर लिया है। जबकि अनस हक्कानी ने पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई, अध्यक्ष एचसीएनआर अब्दुल्ला अब्दुल्ला और हिज़्ब-ए-इस्लामी के दिग्गज गुलबुद्दीन हेतकमत्यार से मुलाकात की।

यह माना जा रहा है कि करज़ई और अब्दुल्ला दोनों की आवाजाही को तालिबान द्वारा प्रतिबंधित और नियंत्रित किया जा रहा है। राष्ट्रपति भवन में तालिबान नेता मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को औपचारिक रूप से सत्ता सौंपने के लिए करज़ई और अब्दुल्ला दोनों से बातचीत की जा रही है। ऐसा बताया जा रहा है कि सिराजुद्दीन हक्कानी क्वेटा से निर्देश दे रहा है।

जबकि हक्कानी नेटवर्क कैडर बड़े पैमाने पर काबुल को नियंत्रित कर रहे हैं, मुल्ला उमर के बेटे और तालिबान सैन्य आयोग के प्रमुख मुल्ला याकूब के नेतृत्व वाला तालिबान गुट, पश्तूनों की पारंपरिक सीट कंधार से सत्ता पर काबिज होने की योजना बना रहा है।

वहीं, मुल्ला बरादर 18 अगस्त को दोहा से आने के बाद मुल्ला याकूब से मिले। तालिबान के धार्मिक प्रमुख, मुल्ला हैबतुल्लाह अकुंजादा, अभी भी कराची में हैं। हालांकि काबुल में सरकार के गठन पर तालिबान नेतृत्व के भीतर बातचीत चल रही है। इसके अलावा पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद (JeM) भी दक्षिण अफगानिस्तान में अपने हिस्सेदारी की मांग कर रहा है।

काबुल में तालिबान के उदय के साथ, जैश के भीतर और साथ ही रावलपिंडी में उनके आकाओं के बीच जश्न मनाया जा रहा है क्योंकि हमलावरों द्वारा नकदी और शीर्ष अमेरिकी हथियारों और सैन्य वाहनों पर कब्जा कर लिया गया है।

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.