ताज़ा खबर
 

सीरियाई जेलों में कैदियों से बलात्कार करने और उन्हें इलेक्ट्रिक शॉक देने पर एमनेस्टी ने जताई चिंता

निगरानी समूह ने एक रिपोर्ट में कहा है कि सीरिया में मार्च 2011 से जारी संघर्ष के बाद से देश में हिरासत में लिए गए 17,700 से अधिक लोगों की मौत होने का अनुमान है।

Author बेरूत | August 18, 2016 12:47 PM
भाजपा नेता को निगम दफ्तर से फाइल चोरी के आरोप में भाजपा पार्षद को गिरफ्तार किया गया। (फोटो सोर्स: रॉयटर्स)

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने आज (गुरुवार, 18 अगस्त) कहा कि सीरियाई अधिकारी सरकारी जेलों में मारपीट करने, इलेक्ट्रिक शॉक देने, बलात्कार करने और मनोवैज्ञानिक उत्पीड़न करने समेत ‘बड़े पैमाने पर’ उत्पीड़न कर रहे हैं जो मानवता के खिलाफ अपराध के बराबर है। निगरानी समूह ने एक रिपोर्ट में कहा है कि सीरिया में मार्च 2011 से जारी संघर्ष के बाद से देश में हिरासत में लिए गए 17,700 से अधिक लोगों की मौत होने का अनुमान है यानि हिरासत में प्रति माह 300 से अधिक लोग मारे गए हैं।

एमनेस्टी के मुताबिक सरकार विरोधी प्रतीत होने वाले हर व्यक्ति पर मनमाने ढंग से हिरासत में लिए जाने, उत्पीड़न का शिकार होने, दबावपूर्वक लापता हो जाने और हिरासत में मारे जाने का खतरा है। निगरानी समूह के मुताबिक यह रिपोर्ट उत्पीड़न का शिकार हुए 65 लोगों के साक्षात्कार पर आधारित है जिनमें से अधिकतर आम नागरिक हैं। उन्होंने खुफिया एजेंसी के हिरासत केंद्रों और दमिश्क के निकट सैन्य जेल में ‘भयावह उत्पीड़न एवं अमानवीय परिस्थितियों’ के बारे में बताया था।

एमनेस्टी ने कहा कि इनमें से अधिकतर ने कम से कम एक व्यक्ति को हिरासत में मारे जाते देखा है। एक पूर्व कैदी समेर के अनुसार, ‘वे हमारे साथ पशुओं की तरह व्यवहार करते थे।’ एमनेस्टी ने बताया कि समेर को मानवीय मदद मुहैया कराते समय पकड़ा गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App