ताज़ा खबर
 

सीरिया रासायनिक हमला: 9 महीने के जुड़वा बच्चों के साथ इस पिता ने एक साथ दफनाए परिवार के 22 लोग

इस रासायनिक हमले में अल-यूसुफ ने अपनी पत्नी, दो भाईयों और भतीजों समेत परिवार के 22 लोगों को खोया है

अब्दुल हमीद अल-यूसुफ ने परिवार के 22 लोगों के साथ बच्चों को भी दफना दिया। (AP Photo)

सीरिया में मंगलवार को रासायनिक हमला किया गया, जिसमें सबसे ज्यादा मौत बच्चों की हुई है। इसमें 9 महीने के दो जुड़ावा बच्चों अया और अहमद की भी मौत हुई। इन दोनों के पिता ने बेदह भावुक होकर बच्चों को दफनाया। पिता ने दोनों को गोद में लिया हुआ था और वह रोते हुए बच्चों के बाल सहला रहे थे। दफनाने ने पहले पिता ने कहा, “कहो अलविदा, बेटा, अलविदा कहो।” इसके बाद अब्दुल हमीद अल-यूसुफ ने परिवार के 22 लोगों के साथ बच्चों को भी दफना दिया।

इस कैमिकल अटैक में 100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है, जिसमें से अधिकतर बच्चे हैं। इस हमले में सबसे ज्यादा नुकसान अल-यूसुफ के परिवार को हुआ। अल-यूसुफ ने अपनी पत्नी, दो भाईयों और भतीजों समेत परिवार के 22 लोगों को खोया है। बचावकर्मियों ने इस हमले में जीवित बचे कई लोगों को घटनास्थल से बाहर भी निकाला। रूसी रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि जब सीरियाई हवाई हमले में विद्रोहियों के एक आयुध भंडार को निशाना बनाया गया तो जहरीला रसायन फैल गया। संदिग्ध रासायनिक हमले के लिए ट्रंप प्रशासन ने सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। हालांकि असद प्रशासन और रूस की सरकार ने इस हमले के पीछे अपनी किसी भूमिका से इंकार किया है।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XZs G8232 64 GB (Warm Silver)
    ₹ 34999 MRP ₹ 51990 -33%
    ₹3500 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 13989 MRP ₹ 16999 -18%
    ₹2000 Cashback

इसी परिवार की एक अन्य सदस्य अया फेडल ने उस भयावह दृश्य को याद करते हुए बताया कि किस तरह वो अपने 20 महीने के बेटे को लेकर भागी थीं, ताकि टॉक्सिक गैस से बच सकें। लेकिन 25 साल की इंग्लिश टीचर अया जैसे ही सड़क पर आईं तो दंग रह गईं। यहां उन्होंने देखा कि एक ट्रक लोगों की लाश से भरा हुआ था, जिसमें उनके भी कई परिवार वाले और बच्चे शामिल थे। अया फेडल ने कहा, “अम्मार, अया, मोहम्मद, अहमद, आई लव यू माय बर्ड्स (birds)। वो सच में बर्ड के जैसे थे।” बता दें कि ये हमले सीरिया में विद्रोहियों के कब्जे वाले खान शेखुन शहर में हुए थे। हमले के बाद लगभग 400 लोगों को सांस की समस्या हो गई है। माना जा रहा है कि अगर स्थिति ऐसी ही रही को मरने वालों की संख्या और ज्यादा भी बढ़ सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App