ताज़ा खबर
 

सीरिया में लागू हुआ संघर्ष विराम

इस संघर्ष विराम का लक्ष्य सीरिया सरकार के प्रतिनिधियों और विपक्ष को राजनीतिक बदलाव पर चर्चा करने के लिए जिनेवा में पुन: वार्ता की मेज पर लाना है।

Author बेरूत | February 27, 2016 11:01 PM
सीरिया के अलेप्पो शहर का कफ्र हमला गांव। (रॉयटर्स फोटो)

अमेरिका और सीरिया की मध्यस्थता में किया गया संघर्ष विराम समझौता शनिवार को सीरिया में लागू हो गया। इस संघर्ष विराम को देश में जारी विनाशकारी संघर्ष के बीच हिंसा को कम करने के लिए सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय कदम बताया जा रहा है। इस्लामिक स्टेट समूह और सीरिया में अलकायदा की शाखा नुसरा फ्रंट को इस संघर्ष विराम में शामिल नहीं किया गया है।

इस संघर्ष विराम का लक्ष्य सीरिया सरकार के प्रतिनिधियों और विपक्ष को राजनीतिक बदलाव पर चर्चा करने के लिए जिनेवा में पुन: वार्ता की मेज पर लाना है। संयुक्त राष्ट्र के दूत स्टाफन डी मिस्तूरा ने घोषणा की है कि यदि शत्रुतापूर्ण गतिविधियों पर विराम का ‘बड़े स्तर पर पालन किया जाता है’ तो शांति वार्ता सात मार्च से शुरू होंगी। यदि ऐसा होता है तो यह पहली बार होगा जब अंतरराष्ट्रीय वार्ताएं सीरिया में पांच वर्षों से चल रहे गृह युद्ध की स्थिति के बीच कुछ हद तक शांति ला पाएंगी। हालांकि इसकी सफलता के लिए कई सशस्त्र धड़ों की ओर से संघर्ष विराम का पालन किए जाने की आवश्यकता होगी। यह संघर्ष विराम इसलिए भी और कमजोर है क्योंकि यह इस्लामिक स्टेट समूह और नुसरा फ्रंट के खिलाफ लड़ाई जारी रखने की अनुमति देता है। इससे बड़े स्तर पर युद्ध फिर शुरू हो सकता है। सीरियाई सरकार और करीब 100 विद्रोही समूहों समेत विपक्ष ने कहा कि वे संघर्ष विराम की सफलता पर गंभीर संदेह के बावजूद इसका पालन करेंगे।

डी मिस्तूरा ने संघर्ष विराम के मध्य रात्रि से लागू हो जाने के बाद जिनेवा में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि शुरुआती रिपोर्टों में इस बात का संकेत मिला है कि कुछ ही मिनटों में दमिश्क और विद्रोहियों के कब्जे वाले निकटवर्ती कस्बे दराया में अचानक हालात ‘शांत हो गए।’ उन्होंने कहा कि एक ‘घटना’ की रिपोर्ट मिली है जिसकी जांच उनका एक दल कर रहा है लेकिन उन्होंने इसके बारे में विस्तार से जानकारी नहीं दी। जमीनी स्तर पर विपक्षी सदस्यों ने भी संघर्ष विराम के शुरुआती पालन की रिपोर्ट दी है। दमिश्क के निकट कार्यकर्ता माजेन अल शामी ने कहा कि विपक्ष के कब्जे वाले ईस्टर्न घोउटा में ‘वर्षों में पहली बार शांति’ देखने को मिली।

दमिश्क में एसोसिएटिड प्रेस के कर्मी ने बताया कि मध्यरात्रि से तीन मिनट पहले विस्फोटों की आवाज आनी बंद हो गई। अलेप्पो में विपक्षी मीडिया समूह अलेप्पो 24 ने बताया कि रूसी युद्धक विमान स्थानीय समयानुसार देर रात 12 बजकर 19 मिनट पर अलेप्पो से चले गए। संघर्ष विराम उल्लंघन की भी कुछ रिपोर्ट मिली हैं जिनकी स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं हो पाई है लेकिन ऐसी घटनाएं अपेक्षाकृत सीमित प्रतीत होती हैं। होम्स में रहने वाले विद्रोहियों के कार्यकर्ता मोहम्मद अल सिबाई ने बताया कि संघर्ष विराम लागू होने के 15 मिनट बाद तालबिसेह कस्बे में इसका उल्लंघन हुआ और यह उल्लंघन सरकारी तोपखाने से बमबारी के कारण हुआ लेकिन बाद में स्थिति शांत हो गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App