ताज़ा खबर
 

अमेरिका जा रहीं सुषमा आधे रास्ते से लौटीं

फ्रांस में आतंकी हमले की छाया क्षेत्रीय प्रवासी भारतीय दिवस पर भी पड़ी है। आयोजन का शुभारंभ करने के लिए अमेरिका की यात्रा पर जा रहीं सुषमा स्वराज हमलों के बाद..

Author लॉस एंजिलिस | November 15, 2015 11:00 PM
bjp, foreign ministry, congo citizen, sushma swaraj, international news, jansatta editorialविदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज। (फाइल फोटो)

फ्रांस में आतंकी हमले की छाया क्षेत्रीय प्रवासी भारतीय दिवस पर भी पड़ी है। आयोजन का शुभारंभ करने के लिए अमेरिका की यात्रा पर जा रहीं सुषमा स्वराज हमलों के बाद आधे रास्ते से ही भारत लौट रही हैं। शनिवार को शुरू हुए क्षेत्रीय प्रवासी भारतीय दिवस में शिरकत करने वाले सैकड़ों लोगों ने खौफनाक हमले के पीड़ितों की याद में एक मिनट का मौन रखा।

नई दिल्ली में अधिकारियों ने बताया कि अमेरिका की यात्रा के क्रम में दुबई में थोड़ी देर के लिए रुकीं स्वराज पेरिस में हमलों के बारे में सुन कर भारत वापस लौट गईं। विदेश राज्य मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह के अब दो दिवसीय आयोजन में शिरकत करने की उम्मीद है। पेरिस आतंकी हमलों में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देते हुए लॉस एंजिलिस में दो दिवसीय आयोजन में करीब 1000 भारतीय-अमेरिकी शिरकत कर रहे हैं। कैलिफोर्निया के शीर्ष अमेरिकी सांसद ब्रैड शर्मन ने कहा कि फ्रांस की राजधानी पर हमला लश्करे तैयबा द्वारा नवंबर 2008 में किए गए मुंबई आतंकी हमले की तरह ही है।

आतंकवाद पर विदेश मामलों की सदन की सब कमेटी के पूर्व अध्यक्ष शरमन ने कहा, ‘‘आज हमें पेरिस, न्यूयार्क, इराक व मुंबई में हमलों को लेकर विचार करना चाहिए। पेरिस का हमला मुंबई आतंकी हमले की तरह हुआ।’’ पेरिस और मुंबई हमलों ने दिखा दिया है कि लोगों का एक छोटा सा गुट किस तरह शहर में खौफ पैदा कर सकता है। उन्होंने कहा कि आइएसआइएस ने पेरिस में हमले के लिए मुंबई मॉडल अपनाया। उन्होंने कहा, ‘‘मुंबई पर हमले का लश्करे तैयबा, पाकिस्तानी सेना और उसकी खुफिया एजंसी ने समर्थन किया। इसकी साजिश रचने में कई साल लगे। अब हमें आतंकवाद के खिलाफ यह कहते हुए खड़ा होना होगा कि बहुत हो चुका।’’

आयोजन को अपने संबोधन में अमेरिका में भारतीय दूत अरूण के सिंह ने कहा कि भारत के साथ जुड़ने के लिए भारतीय-अमेरिकियों के बीच आकांक्षा बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि प्रवासी भारतीयों के बीच इस बात पर सहमति है कि भारत में अवसर बढ़ रहा है। पिछले 18 महीने में नरेंद्र मोदी सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों का हवाला देते हुए दूत ने कहा कि भारत में बदलाव से अवसर बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस साल के पहले छह महीने में भारत में अधिकतम एफडीआइ गया। भरोसा सूचकांक में भी भारत शीर्ष पर रहा। सिंह ने कहा कि भारतवंशी भारत और अमेरिका दोनों के विकास में बड़ी भूमिका अदा कर रहे हैं। भारत सरकार ने कल भारत में भारतीय अमेरिकियों को इंटर्नशिप कार्यक्रम की घोषणा की।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पाक के सेना प्रमुख अमेरिकी दौरे पर, अफगानिस्तान और तालिबान पर होगी बात
2 राजनाथ 19 से चीन की यात्रा पर, आतंकवाद-तस्करी के सहित कई मुद्दों पर करेंगे बात
3 प्रायोगिक परीक्षण के दौरान ट्रेन पटरी से उतरी, 10 की मौत
ये पढ़ा क्या?
X