ताज़ा खबर
 

अरब खाड़ी देशों में दूसरे देशों के कामगारों का हो रहा है शोषण: रिपोर्ट

अरब खाड़ी देशोें के अरबों डॉलर के निर्माण क्षेत्र में काम कर रहे दक्षिण एशिया के कामगारों को स्थानीय कंपनियों में अपनी नियुक्ति की फीस खुद चुकानी पड़ रही है।

Author दुबई | April 11, 2017 7:58 PM
अरब खाड़ी देशोें के अरबों डॉलर के निर्माण क्षेत्र में काम कर रहे दक्षिण एशिया के कामगारों को स्थानीय कंपनियों में अपनी नियुक्ति की फीस खुद चुकानी पड़ रही है। (AP)

अरब खाड़ी देशोें के अरबों डॉलर के निर्माण क्षेत्र में काम कर रहे दक्षिण एशिया के कामगारों को स्थानीय कंपनियों में अपनी नियुक्ति की फीस खुद चुकानी पड़ रही है। जबकि कंपनियों और उनके ग्राहकों को सस्ते श्रमिकों का अच्छा लाभ मिल रहा है। आज जारी एक अध्ययन में यह खुलासा किया गया है। न्यूयार्क विश्वविद्यालय के स्टर्न सेंटर फॉर बिजनेस एंड ह्यूमन राइट्स ने एक अनुसंधान में पाया कि दूसरे देशों के कामगारों को आव्रजन शुल्कों अदि के रूप में औसतन अपने 10 से 18 महीने के वेतन के बराबर खर्च करना पड़ जाता है।

कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से खाड़ी में निर्माण प्रभावित हुआ है ओर इससे सरकारों की बड़ी बुनियादी ढांचा लागत के भुगतान की क्षमता प्रभावित हुई है। हालांकि, इसके बावजूद लाखों सस्ते निर्माण श्रमिकों की मांग बनी हुई है। कतर 2022 के विश्व कप के लिए स्टेडियमों के निर्माण को भारी निवेश कर रहा है। दुबई 2020 के वर्ल्ड एक्सपो के लिए बड़े रेगिस्तानी इलाके का विकास कर रहा है।

माइग्रेंट वर्कर्स पे: रेक्रूटयूटमेट आफ दी माइग्रेंट लेबर फोर्स इन दी गल्फ कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री (विदेशों से आने वाले श्रमिकों की मजदूरी : खाड़ी के निर्माण उद्योग में आव्रजक श्रमिकों की भर्ती) शीर्षक रपट में बताया गया है कि भर्ती एजेंटों और उनके लिए काम करने वाले सब-एजेंटों के एक जटिल तंत्र के जरिए किस प्रकार ऐसे मजदूरों का शोषण किया जाता है। ऐसे श्रमिकों की भर्ती की वास्तविक लागत 400-650 अमेरिकी डालर तक है पर उन्हें इसके कई गुने के बाराबर खर्च करना पड़ता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App