scorecardresearch

लंका IOC ने तेल की बिक्री को लेकर तय की गाइडलाइन, मोटरसाइकिल को 15 सौ तो कार को 7 हजार रुपये प्रति लीटर की दर से मिलेगा पेट्रोल

आईओसी की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार मोटरसाइकिल के लिए 1500 श्रीलंकाई रुपए, तिपहिया के लिए 2500 रुपये, मोटर वाहन के लिए 7000 रुपये की सीमा तय की गई है।

SriLanka Economic Crisis | petrol | diesel |
श्रीलंका में आर्थिक संकट। (फोटो सोर्स: @ANI)।

श्रीलंका में आर्थिक संकट गहराता जा रहा है। आलम यह है कि देश में ईंधन अब खत्म होने की कगार पर पहुंच गया है। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए सरकार ने पूरे देश में तेल की बिक्री पर रोक लगा दी है। केवल आवश्यक सेवाओं के लिए ही तेल दिया जा रहा है। सरकार ने ये प्रतिबंध 10 जुलाई तक के लिए लगाए हैं। श्रीलंका IOC से तेल की बिक्री को लेकर एक गाइडलाइन तय की है, जिसके मुताबिक बाइक को 1500 रुपए तो कार को सात हजार रुपए प्रति लीटर की दर से पेट्रोल मिलेगा।

स्थिति को देखते हुए लंका आईओसी ने तत्काल प्रभाव से कार्रवाई करने का फैसला किया है। सरकार ने पेट्रोल की बिक्री की सीमा तय कर दी है। वर्तमान में भारत द्वारा ऋण सुविधा के कारण देश में तेल की आपूर्ति की जा रही थी।

हालांकि इस हफ्ते सरकार ने संकेत दिया कि अब उन्हें स्थिति को फिर से पटरी पर लाने के लिए सख्त कदम उठाने पड़ेंगे। जिसमें तेल की बिक्री पर रोक भी शामिल है।

आईओसी की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार मोटरसाइकिल के लिए 1500 श्रीलंकाई रुपये, तिपहिया के लिए 2500 रुपये, मोटर वाहन के लिए 7000 रुपये की सीमा तय की गई है। यानी ग्राहकों को इससे ज्यादा तेल नहीं मिलेगा। फिलहाल श्रीलंका में तेल की कीमत 400 रुपये प्रति लीटर के ऊपर चल रही है।

वहीं सरकार ने साफ किया है कि सरकारी तेल कंपनियां 10 जुलाई तक पेट्रोल-डीजल केवल जरूरी सेवाओं को ही देंगी, जिसमें स्वास्थ्य, सुरक्षा, बिजली और निर्यात क्षेत्रों को प्राथमिकता मिलेगी।

सरकार ने तेल की खपत कम करने के लिए स्कूल कॉलेज को बंद कर दिया है। वहीं, ऑफिस बंद करने और वर्क फ्रॉम होम करने के निर्देश दिए गए हैं। वर्तमान में, सरकार के मंत्री कतर और रूस के दौरे पर हैं जहां वे तेल की आपूर्ति के लिए बातचीत कर रहे हैं।

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X