ताज़ा खबर
 

अब श्रीलंका भी आया भारत के साथ, कहा- सार्क सम्मेलन में नहीं जाएंगे पाकिस्तान

19 वें दक्षेस शिखर सम्मेलन पाकिस्तान के इस्लामाबाद में होगा।

इस साल भारत दौरे पर आए श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ । (File Photo)

पाकिस्तान को एक और झटका देते हुए श्रीलंका ने इस्लामाबाद में आयोजित होने वाले 19वें दक्षेस शिखर सम्मेलन में शामिल नहीं होने की शुक्रवार को घोषणा की। भारत ने इस सम्मेलन में शामिल होने को लेकर असमर्थता जताई थी और इसके बाद श्रीलंका पांचवां देश है जिसने आयोजन में शामिल नहीं होने की घोषणा की है। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि श्रीलंका को अफसोस है कि इस्लामाबाद में 19वें दक्षेस शिखर सम्मेलन के आयोजन के लिए क्षेत्र में अनुकूल माहौल नहीं है।  इसके पहले भारत, बांग्लादेश, भूटान और अफगानिस्तान दक्षेस सम्मेलन में शामिल नहीं होने की घोषणा कर चुके हैं। हालांकि, नेपाल ने भी यह सम्मेलन पाकिस्तान के बाहर कराने के लिए कहा है। वहीं अब एक सदस्य मालदीव बचा है, जिसने इसको लेकर कोई बयान नहीं दिया।

वीडियो में देखें- कश्मीर की सीमा के गांवों को करवाया गया खाली

बयान में भारत और पाकिस्तान के बीच के मौजूदा तनाव को कोई जिक्र नहीं किया गया है। लेकिन इसमें सभी प्रकार के आतंकवाद की निंदा की गयी है। इसमें क्षेत्र में आतंकवाद के मुद्दे से निर्णायक तरीके से निपनटने पर जोर दिया गया है। बयान के अनुसार दक्षिण एशिया के लोगों की भलाई के लिए सार्थक क्षेत्रीय सहयोग की कामयाबी की खातिर शांति और सुरक्षा आवश्यकत तत्व हैं।

Read Also:  सार्क सम्मेलन में शामिल नहीं होंगे भारत, भूटान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान; जानिए सार्क सम्मेलन के बारे में

बता दें, उरी हमले के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने पीएम मोदी के सम्मेलन में शरीक नहीं होने की जानकारी देते हुए कहा था, ‘वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए भारत सरकार इस्‍लामाबाद में प्रस्‍तावित बैठक में हिस्‍सा नहीं ले सकती।’ सार्क देशों की बैठक 9 और 10 नवंबर, 2016 को इस्लामाबाद में होनी है। पिछले साल सार्क सम्मेलन नेपाल में हुआ था।

सार्क की स्थापना 1985 में ढाका में की गई थी। इसका मुख्यालय नेपाल की राजधानी काठमांडू में है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App