ताज़ा खबर
 
title-bar

श्रीलंका में फिर से ब्लास्ट? कोलंबो से 40 किमी दूर सुनाई दिया जोरदार धमाका

श्रीलंका में राजधानी कोलंबो से 40 किलोमीटर दूर एक बार फिर धमाका हुआ है। पुगोडा शहर में धमाके की आवाज को सुना गया है। पुलिस का कहना है कि वह इस धमाके की जांच कर रही है।

श्रीलंका में हुए आतंकी हमलों में मारे गए लोगों के परिजन (फाइल फोटोः पीटीआई/एपी)

श्रीलंका की राजधानी कोलंबो से करीब 40 किलोमीटर दूर पुगोडा के शहर में फिर से धमाके की आवाज सुनी गई है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यह धमाका मजिस्ट्रेट कोर्ट के पास खाली पड़े मैदान में हुआ। पुलिस का कहना है कि वह इस विस्फोट की घटना की जांच कर रही है।

यह धमाके ऐसे समय में हुए हैं जब ईस्टर पर आतंकी हमलों के बाद देश में तनाव काफी चरम पर है। रविवार को ईस्टर के दिन श्रीलंका में हुए 8 सिलसिलेवार धमाकों में 359 लोग मारे गए थे जबकि करीब 500 लोग घायल हो गए थे।   हमलों की आशंका को देखते हुए देश में इमरजेंसी लगाई गई है।

इमरजेंसी में सुरक्षा अधिकारी कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए किसी भी स्थान की अचानक तलाशी लेने के साथ ही संदिग्ध व्यक्ति को गिरफ्तार या अनिश्चित समय तक हिरासत मे ंरख सकते हैं।  इस बीच श्रीलंका सेना की मदद से विभिन्न स्थानों पर तलाशी ले रही है। हमले के संबंध में 16 और संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया गया है। इन लोगों से हमले के बारे में पूछताछ की जा रही है।

इससे पहले श्रीलंका के विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को बताया कि ईस्टर के दिन हुए बम विस्फोटों में 11 भारतीय नागरिकों की मौत हुई। इसके साथ ही इन हमलों में मरने वाले कुल विदेशी नागरिकों की संख्या बढ़कर 36 हो गई है। इनमें बांग्लादेश का एक, चीन के 2, डेनमार्क से 3, जापान, नीदरलैंड, स्पेन और पुर्तगाल से 1-1, सऊदी अरब और तुर्की से 2-2 नागरिक शामिल हैं। मरने वालों मे ऑस्ट्रेलिया के 2 नागरिक भी हैं।

आतंकी संगठन आईएसआईएस ने इस हमले की जिम्मदारी ली थी। हमले के बाद पूरे देश में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया था। भारत समेत पूरे दुनिया में श्रीलंका में हुए इस आतंकी हमले की निंदा की थी। खबर थी कि हमले में श्रीलंका स्थित भारतीय दूतावास भी निशाने पर था। इससे पहले हमले में खुफिया विभाग की नाकामी को देखते हुए श्रीलंका में दो शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों से इस्तीफा ले लिया गया है। हादसे के बाद स्कूलों को 29 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिया गया है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App