scorecardresearch

आतंकी हमले की जांच राडार पर आया इमाम, बना रखे थे दो टेरर सेल

शुक्रवार को हुए हमले में 14 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि हादसे में 120 लोग घायल हो गए थे।

स्पेन के बार्सिलोना में आतंकी हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देते लोग। शुक्रवार को हुए हमले में 14 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि हादसे में 120 लोग घायल हो गए थे। (फोटो-AP)

स्पेन में हुए दोहरे आतंकी हमलों के सिलसिले में वहां की पुलिस ने एक छोटे से पहाड़ी शहर रिपोल के एक इमाम को राडार पर लिया है। मोरक्को मूल के इस इमाम पर आरोप है कि उसने दो टेरर सेल बना रखे थे। इमाम का नाम अब्दलबाकी एस सट्टी है और जो लोग भी उसे जानते थे, उसे एक अच्छे विचार वाला धार्मिक व्यक्ति कहते हैं। पुलिस को पता चला है कि इमाम हाल ही में मस्जिद से छुट्टी लेकर मोरक्को जाने की बात कर रहा था, जहां वो अपना व्यवसाय करना चाहता था। हालांकि, पुलिस को शक है कि पिछले बुधवार को इमाम वहां था, जहां संदिग्ध आतंकियों द्वारा बम बनाने के दौरान अचानक विस्फोट हुआ था।

स्पेन पुलिस का मानना है कि इस विस्फोट ने ही संभावित रूप से हमलावरों की योजनाओं को बदल दिया, जो बार्सिलोना के व्यस्त लास रैम्ब्लस बुलेवार्ड और कैंब्रिज रिज़ॉर्ट शहर कैंब्रिल्स में पैदल चलने वालों पर तेज रफ्तार गाड़ी चढ़ाने के रूप में हुए थे। रिपोल में इमाम सेट्टी के अपार्टमेंट में चार महीने पहले रहने आए फल विक्रेता 45 वर्षीय नॉर्दीन अल हाजी ने पुलिस को बताया कि इमाम सेट्टी पिछले मंगलवार की सुबह यह कहकर वहां से निकला कि वो छुट्टी पर मोरक्को जा रहा है।

आरोपी इमाम बार्सिलोना से 90 किलोमीटर उत्तर में पेन्ट-कवर पायरेनीज़ और विलुप्त कैटालोनियन टाउन के लाल छतों वाले दो कमरे वाले फ्लैट में रहता था, जिसका किराया 150 यूरो प्रति माह है। सेट्टी के फ्लैट में रहनेवाले लोगों ने बताया कि वह बहुत कम बोलता था और अधिकांश समय अपने कमरे में कम्प्यूटर पर या किताब पढ़ने में ही बिताता था। उसके पास एक पुराना मोबाइल था, जिसमें इंटरनेट की फैसिलिटी भी नहीं थी।

शुक्रवार को हुए हमले में 14 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि हादसे में 120 लोग घायल हो गए थे। पुलिस ने इस हादसे के बाद एक सर्च ऑर्डर जारी किया है, जिसके मुताबिक हमले के तीन दिन बाद शक की सूई एक इमाम पर घूम रही है। स्पेन के एक अखबार, एल मुंडो के मुताबिक इमाम, इससे पहले ड्रग तस्करी में भी हिरासत में लिया जा चुका है। अखबार के मुताबिक वो अल्जीरिया और क्यूटा के बीच हशीश की तस्करी करता था। अखबार ने आतंकवाद विरोधी सूत्रों के हवाले से लिखा है कि साल 2012 में सैटी ने जेल छोड़ दिया था, जहां उसकी दोस्ती राशीद एग्लीफ़ के साथ हुई थी। अग्लीफ को मैड्रिड में ट्रेन में बम हमले के लिए साल 2004 में 18 साल जेल की सजा सुनाई गई थी।

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X