NASA successfully test Falcon heavy rocket - स्पेसएक्स ने किया फाल्कन हैवी रॉकेट का सफल परीक्षण, नासा के सट्रन 5 के बाद है दुनिया का सबसे शक्तिशाली रॉकेट - Jansatta
ताज़ा खबर
 

स्पेसएक्स ने किया फाल्कन हैवी रॉकेट का सफल परीक्षण, नासा के सट्रन 5 के बाद है दुनिया का सबसे शक्तिशाली रॉकेट

स्पेसएक्स के नए फॉल्कन हैवी रॉकेट ने कई बार स्थगित होने के बाद आखिरकार बुधवार को फ्लोरिडा में नासा के कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र से अपना परीक्षण पूरा कर लिया है।

Author January 25, 2018 7:50 PM
स्पेसएक्स के नए फॉल्कन हैवी रॉकेट की तस्वीर।(फोटो सोर्स- ट्विटर)

स्पेसएक्स के नए फॉल्कन हैवी रॉकेट ने कई बार स्थगित होने के बाद आखिरकार बुधवार को फ्लोरिडा में नासा के कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र से अपना परीक्षण पूरा कर लिया है। स्पेसएक्स के आधिकारिक ट्विटर पर जारी किए गए वीडियो में नजर आ रहा है कि दोपहर 12.30 बजे फॉल्कन हेवी रॉकेट के सभी इंजन स्टार्ट हो रहे हैं और उनमें से तेज धुआं व भाप निकल रही है। स्पेसएक्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी इलॉन मस्क ने ट्विटर पोस्ट पर लिखा, “इस सुबह फाल्कन हैवी रॉकेट का परीक्षण अच्छा रहा।”

उन्होंने कहा कि मेगा रॉकेट का पहला लॉन्च सिर्फ एक सप्ताह में हो सकता है। फाल्कन हैवी दोबारा उपयोग में लाया जाने वाला सुपर अधिक भार ले जाने में सक्षम प्रक्षेपण वाहन है। इसे नासा के सट्रन 5 के बाद दुनिया का सबसे शक्तिशाली रॉकेट माना जाता है। यह रॉकेट अधिक वजनी उपकरण ले जाने में सक्षम है।

बता दें पिछले साल के आखिर में नासा ने पहली बार हमारे सौरमंडल की तरह ही आठ ग्रहों वाला नया सोलर सिस्टम ढूंढ़ने का दावा किया था। नासा ने इसकी घोषणा करते हुए बताया कि केप्लर टेलीस्कोप की मदद से सुदूर अंतरिक्ष में आठ ग्रहों वाला नया सौरमंडल ढूंढ़ा गया है। अमेरिकी सामाचारपत्र इंडीपेंडेंट ने यह जानकारी दी है। अंतरिक्ष अनुसंधान की दिशा में यह महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। नासा वैज्ञानिकों ने केप्लर टेलीस्कोप से भेजे गए आंकड़ों का विश्लेषण करने में गूगल की आर्टीफिशियल तकनीक की मदद लेने की बात कही थी। केप्लर टेलीस्कोप को वर्ष 2009 में अंतरिक्ष में स्थापित किया गया था। तब से यह पृथ्वी स्थित नियंत्रण कक्ष को डाटा भेज रहा है। इसकी मदद से हमारे सौरमंडल के बाहर कई सोलर सिस्टम का पता लगाया जा चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App