ताज़ा खबर
 

दक्षिण कोरिया ने दी युद्ध छेड़ने की धमकी, उत्तर कोरिया के तानाशाह ने भेजा था जासूसी ड्रोन

इस महीने की शुरुआत में डेमिलिटाइज्ड जोन (बिना सेना वाले इलाके) के पास एक पहाड़ी पर एक ड्रोन पाया गया था

साउथ कोरिया ने कहा कि अगर किम जोंग अपनी हरकतों से बाज नहीं आए तो हमारी सेना इसका जवाब देगी। (Photo: Reuters)

साउथ कोरिया की मिसाइल विरोधी रक्षा प्रणाली की साइट की जासूसी के लिए नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने ड्रोन भेजा था। इस बात की पुष्टि होने के बाद साउथ कोरिया ने नॉर्थ कोरिया को सैन्य कार्रवाई की धमकी दी है। सोल ने इसकी निंदा की है साथ ही इसे उकसाने वाली कार्रवाई करार दिया है। यह भी कहा कि अगर किम जोंग अपनी हरकतों से बाज नहीं आए तो हमारी सेना इसका जवाब देगी। इस बीच दो अमेरिकी अधिकारियों ने अंग्रेजी चैनल सीएनएन को बताया कि तानाशाह के परमाणु परीक्षण स्थल पर वृद्धि की गतिविधि का पता चला है, हो सकता है यह छठे परीक्षण की तैयारी का संकेत दे रहा हो। अधिकारियों का कहना है कि परीक्षण निश्चित रूप से अभी बहुत दूर हैं। इस महीने सैटेलाइट तस्वीरों को ऑबर्वेशन ग्रुप 38 नॉर्थ ने प्रकाशित किया है। इसने पोंगगी-री साइट पर होने वाली गतिविधियों की पुष्टि हुई है, हालांकि इसके विश्लेषकों का कहना है कि साइट अभी भी स्टैंडबाय मोड में प्रतीत होती है।

यदि एक परीक्षण किया गया था, तो यह किसी बड़े हमले का संकेत दे सकता है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया था कि स्थिति तेजी से बिगड़ सकती है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने उत्तरी कोरिया को नियंत्रित करने के प्रयासों से काम नहीं किया। वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति ने बार-बार कहा है कि अगर चीन उत्तर कोरिया के मुद्दे को हल नहीं कर सका, तो हम करेंगे।

साउथ कोरिया की सेना ने बुधवार (21 जून) को कहा कि इस महीने की शुरुआत में डीमिलिट्राइज्ड जोन (बिना सेना वाले इलाके) के पास एक पहाड़ी पर एक ड्रोन पाया गया था जो उत्तर कोरिया का था। एक प्रवक्ता ने कहा कि यह काफी उकसाने वाला काम था, जो कोरियाई युद्ध के समझौते का उल्लंघन करता है। साउथ कोरिया के अधिकारियों ने कहा कि ड्रोन जब नॉर्थ कोरिया के लिए लौट रहा था तब दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें एक कैमरा लगा था। इसमें कोरिया के दक्षिणी क्षेत्र में मिसाइल विरोधी रक्षा प्रणाली की साइट के फोटो भी मिले हैं। अधिकारियों ने कहा कि ड्रोन का रूट और उसे कहां से भेजा गया था इसकी पुष्टि हो गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App