ताज़ा खबर
 

6 साल के बच्चे की ओबामा से भावुक अपील, सीरियाई बच्चे ओमान दकनीश को गोद लेने की जताई इच्छा

न्यूयॉर्क के स्कार्सडेल में रहने वाले एक 6 साल के छोटे बच्चे एलेक्स ने राष्ट्रपति ओबामा को चिठ्ठी लिखकर ओमान दकनीश को गोद लेने की इच्छा जाताई है।

न्यूयार्क में रहने वाले 6 साल के बच्चे एलेक्स ने राष्ट्रपति ओबामा को चिठ्ठी लिखकर सीरियाई शरणार्थी ओमान दकनीश को गोद लेने की इच्छा जाताई है। (Photo: White House Video)

न्यूयॉर्क के स्कार्सडेल में रहने वाले एक 6 साल के छोटे बच्चे एलेक्स की मानवता से भरी चिठ्ठी ने बहुत सारे उम्रदराज लोगों को उनकी जिम्मेदारी का एहसास कराया है। इस बच्चे ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को एक चिठ्ठी लिखी है, जिसमें उसने ओबामा से कहा है कि वह और उसके माता-पिता सीरिया में जारी गृह युद्ध में घायल हुए 5 वर्षीय किशोर ओमरान दकनीश को गोद लेना चाहते हैं। एलेक्स ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से इस मामले में मदद करने की गुजारिश की है।


गौरतलब है कि पिछले महीने सीरिया के एलेप्पो शहर में हवाई हमले में घायल हुए ओमरान दकनीश की भावुक कर देने वाली वीडियो और तस्वीर मीडिया में आई थी। वाशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक ओमरान को हवाई हमले में धराशायी हुई एक इमारत के मलबे से जिंदा निकाला गया था। इसके बाद सोशल मीडिया में ओमरान की तस्वीर और वीडियो वायरल हो गई थी जो सीरिया में जारी गृह युद्ध की विभीषिका को परिभाषित कर रही थी।

HOT DEALS
  • Honor 7X 64 GB Blue
    ₹ 15375 MRP ₹ 16999 -10%
    ₹0 Cashback
  • Moto C Plus 16 GB 2 GB Starry Black
    ₹ 7095 MRP ₹ 7999 -11%
    ₹0 Cashback

एलेक्स ने ओबामा को लिखे पत्र में कहा कि ओमरान उसके भाई की तरह है और उसके परिवार का सदस्य हो बन सकता है। एलेक्स ने पत्र में लिखा है कि वह ओमरान को अंग्रेजी बोलना सिखाएगा, बाइक चलाना सिखाएगा और उसकी बहन कैथरीन ओमरान के साथ अपने खिलौने शेयर करेगी। ओबामा एलेक्स की चिठ्ठी से बहुत प्रभावित हुए हैं। उन्होंने इस सप्ताह यूनाइटेड नेशन में अपने भाषण के दौरान ओबामा ने उपस्थित सदस्यों के सामने तेज आवाज में एलेक्स की चिठ्ठी पढ़ी थी।

उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट से एलेक्स की एक वीडियो भी शेयर की है। ओबामा ने अपने संदेश में लोगों से एलेक्स की चिठ्ठी को पढ़ने के लिए कहा है, जिससे वे समझ सकें कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने क्यों उस छोटे बच्चे के पत्र को दुनिया के साथ साझा करने का फैसला लिया। इससे पहले सीरियाई बच्चे अयलान कुर्दी की मौत की तस्वीर ने दुनिया को झकझोर कर रख दिया था। तुर्की के एक बीच पर अयलान की मौत हो गई थी और वह शरणार्थी संकट का प्रतीक बन गया था। इसके बाद कई यूरोपीय देशों ने शरणार्थियों को लेकर अपनी नीतियों को काफी लचर बनाया था।

Read Also: साउथ कोरिया ने बना रखा है तानाशाह किम की हत्‍या का प्‍लान, तैयार बैठे हैं खास सैनिक

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App