हिंद महासागर से आगे भी अपना दायरा आगे बढ़ाए भारतः ली सिएन लूंग

सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सिएन लूंग से कहा है कि वह चाहते हैं कि भारत कारोबार, संवाद और स्थिरता के लिए हिंद महासागर से आगे के क्षेत्र में भी ‘‘जोश और सक्रियता’’ से अपना दखल बढ़ाए।

Author सिंगापुर | July 19, 2016 10:47 AM

सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सिएन लूंग से कहा है कि वह चाहते हैं कि भारत कारोबार, संवाद और स्थिरता के लिए हिंद महासागर से आगे के क्षेत्र में भी ‘‘जोश और सक्रियता’’ से अपना दखल बढ़ाए। दक्षिण एशियाई प्रवासी सम्मेलन (एसएडीसी) में प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए ली ने कहा, ‘‘व्यापक क्षेत्र में आपकी (भारत) दिलचस्पी तो है लेकिन आपने यहां अन्य देशों जितनी सक्रियता नहीं दिखाई है।

उन्होंने कहा कि भारत का सारा ध्यान अभी तक दक्षिण एशियाई उपमहाद्वीपीय मामलों पर ही केंद्रित रहा है और ‘‘विदेशी मामलों में आपकी भागीदारी उतनी नहीं है जितनी कि होनी चाहिए ।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘अगर आप अपने हितों को और जोश तथा सक्रियता के साथ उपमहाद्वीप खासकर हिंद महासागर से आगे ले जाएंगे तो निश्चित ही आप एक बढ़िया कारोबारी देश बन सकेंगे।

क्षेत्र की स्थिरता का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि सैन्य आपूर्ति रास्ते, कारोबार के रास्ते और क्षेत्र में आवागमन की स्वतंत्रता भारत के लिए महत्वपूर्ण सरोकार हो जाएंगे।

ली ने कहा, ‘‘क्षेत्र के मामलों में भागीदारी कर आप अपना योगदान दे सकते हैं और इसके साथ विकास भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि भारत ट्रांस प्रशांत भागीदारी और क्षेत्रीय समग्र आर्थिक भागीदारी में शामिल हो । ली ने कहा कि उन्होंने सिंगापुर आधारित भारतीय कंपनियों से भी कहा था कि वे इस बाबत भारत सरकार पर दबाव बनाएं।

Next Stories
1 जर्मनीः ट्रेन में कुल्हाड़ी से हमला करने वाला अफगानिस्तान टीनेज को पुलिस ने मार गिराया
2 धमकियों के एक सप्ताह बाद नॉर्थ कोरिया ने दागीं तीन बैलिस्टिक मिसाइलें
3 Republican Convention: उठाया गया परमाणु हथियारों की सुरक्षा का मुद्दा, भारत को बताया सहयोगी
आज का राशिफल
X