ताज़ा खबर
 

अमेरिका में अपने धर्म के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए आगे आए सिख

सिखों ने अमेरिकी लोगों के बीच अपने धर्म के बारे में जागरूकता फैलाने के मकसद से एक राष्ट्रीय मीडिया अभियान के लिए चार लाख डॉलर की राशि जुटाई है।

Author वाशिंगटन | Published on: February 26, 2016 10:37 PM
सान फ्रांसिस्को बे एरिया में धन जुटाने के लिए हुए इस समारोह की शुरूआत एकेपीडी की ओर से बनाए गए विज्ञापन से की गई। (फाइल फोटो)

अमेरिका में सिख समुदाय के खिलाफ बढ़ती जातीय नफरत की पृष्ठभूमि में कैलिफोर्निया राज्य के सिखों ने अमेरिकी लोगों के बीच अपने धर्म के बारे में जागरूकता फैलाने के मकसद से एक राष्ट्रीय मीडिया अभियान के लिए चार लाख डॉलर की राशि जुटाई है। यह पहला मौका है जब सिखों ने अमेरिका में अपनी आस्था के संबंध में जागरूकता फैलाने के लिए इतनी राशि जुटाई है। पिछले साल उन्होंने लॉस एंजिलिस में हुए एक समारोह में रेकॉर्ड 90,000 डॉलर जुटाए थे।

एक बयान के अनुसार, सान फ्रांसिस्को बे एरिया में धन जुटाने के लिए हुए इस समारोह की शुरूआत एकेपीडी की ओर से बनाए गए विज्ञापन से की गई। एक वक्त में एकेपीडी ओबामा के चुनाव अभियान में भूमिका निभा चुकी है। पिछले साल ‘नेशनल सिख कैम्पेन’ (एनएससी) ने इस तरह के विज्ञापनों के लिए संदेश और उसकी रूपरेखा विकसित करने के लिए ‘एकेपीडी’ और ‘हार्ट रिसर्च एसोसिएट्स’ की सेवा ली थी, जिसके अध्यक्ष हिलेरी क्लिंटन के पूर्व मुख्य रणनीतिक सलाहकार रहे जिऑफ गैरीन हैं।

एनएससी की राष्ट्रीय सदस्य एवं समारोह की आयोजक कवल कौर ने कहा, ‘अमेरिका में सिख समुदाय के लिए यह एक ऐतिहासिक क्षण है। इससे पहले कभी भी हमें देश भर के साथी अमेरिकी नागरिकों को अपनी कहानी कहने का मौका नहीं मिला और अब यह वक्त आ गया है।’

समारोह में आई हस्तियों में सिख उद्यमी, सिलिकॉन वैली के जाने माने आइटी पेशेवर, चिकित्सक, ट्रक कंपनियों के मालिक और इलाके के सभी गुरुद्वारों के अधिकारी शामिल थे। एनएससी के सह संस्थापक राजवंत सिंह ने अभियान का विवरण प्रस्तुत किया और इस मकसद के लिए वहां आए लोगों से दान देने की अपील करते हुए कहा, ‘हम सिखों को अपने बारे में मौजूदा धारणा को बदल कर अपनी सही छवि पेश करने की जरूरत है। हम लोग केवल पीड़ित नहीं हैं। यह भी दिखाने की जरूरत है कि हम लोग किस तरह से अमेरिकी समाज में पूर्ण रूप से रच बस गए हैं।’ अमेरिका में सिख समुदाय पर हमलों और भेदभाव की कई घटनाएं सामने आई हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories