ताज़ा खबर
 

ढीला हिजाब और खुला गाउन पहनने पर सऊदी रिपोर्टर के पीछे पड़े कट्टरपंथी, देश छोड़ भागी

शिरीन ने आरोपों को सिरे ने नकार दिया। एएफपी के अनुसार उन्‍होंने एक वेबसाइट से कहा कि वह 'सभ्‍य वेशभूषा' में थीं। कई सऊदी कट्टरपंथी भी सोशल मीडिया पर पूरी तरह वस्‍त्रों में ढकी महिला को 'नग्‍न' बताने पर ट्रोल हो रहे हैं।

Author Updated: June 28, 2018 8:21 PM
आरोपी शिरीन अल-रिफाई दुबई के अल आन टीवी में रिपोर्टर हैं। (Photos: Video Screengrab)

एक सउदी अरब टीवी प्रस्‍तोता को उसके पहनावे के चलते सऊदी अरब में लोगों के गुस्‍से का शिकार होना पड़ रहा है। महिला रिपोर्टर ने एक ढीला हिजाब और थोड़ा खुला गाउन पहना था जिससे उनकी पतलून और ब्‍लाउज दिख गया। इसी को लेकर सोशल मीडिया का एक हिस्‍सा उन्‍हें यहां महिलाओं के लिए निर्धारित पहनावों के नियमों के उल्‍लंघन का दोषी बता रहा है। सऊदी अधिकारियों ने दुबई स्थित अल आन टीवी में काम करने वाली शिरीन अल-रिफाई के खिलाफ जांच भी शुरू कर दी है। विवाद की शुरुआत होते ही शिरीन ने देश छोड़ दिया है।

जिस क्लिप पर विवाद हो रहा है, उसे महिलाओं पर दशकों पुराने ड्राइविंग बैन को हटाने के फैसले पर रिपोर्टिंग के समय शूट किया गया था। समाचार एजंसी एएफपी के अनुसार, शिरीन पर ”असभ्‍य कपड़े” पहनकर ”नियमों और गाइडलाइंस का उल्लंघन” करने का आरोप लगा है।

शिरीन ने आरोपों को सिरे ने नकार दिया। एएफपी के अनुसार उन्‍होंने एक वेबसाइट से कहा कि वह ‘सभ्‍य वेशभूषा’ में थीं। कई सऊदी कट्टरपंथी भी सोशल मीडिया पर पूरी तरह वस्‍त्रों में ढकी महिला को ‘नग्‍न’ बताने पर ट्रोल हो रहे हैं। इस पुरातनपंथी देश में महिलाओं पर दुनिया के कई सबसे कड़े प्रतिबंध लागू हैं।

इस माह की शुरुआत में, यहां के मनोरंजन प्राधिकरण के प्रमुख को हटा दिया था। दरअसल एक सर्कस में महिलाओं को टाइट लियोटार्ड्स पहने दिखाने पर कट्टरपंथी नाराज हो गए थे। हाल ही में सऊदी अरब ने महिलाओं के ड्राइविंग पर लागू प्रतिबंध को हटा दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार का इस्तीफा, बताई ये वजह
2 शौहर ने रिश्‍तेदारों को बुलाकर रेप किया, पीड़‍िता की मौत की सजा को अदालत ने पलटा
3 शहर की 40% जमीन पर मालिकाना हक, 400 अरब रुपये से ज्यादा की संपत्ति, अब निर्दलीय लड़ रहा चुनाव